मंत्री अजय चंद्राकर के संरक्षण में स्वास्थ्य विभाग में भ्रष्टाचार का बोलबाला, जनता कांग्रेस युवा विंग ने लगाया आरोप

सीजीएमएससी के दवा खरीदी घोटाले में स्वास्थ्य मंत्री अजय चंद्राकर की परेशानी बढ़ती जा रही है। शुक्रवार को युवा जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ ने टीबी रोगियों की पोषण आहार की खरीदी पर भारी भ्रष्टाचार के मामले का खुलासा किया है।

रायपुर।

जनता कांग्रेस ने सीजीएमएसी के प्रबंध संचालक पर भारी गड़बड़ी और भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। फर्जी दस्तावेजों के आधार पर सीजीएमएससी विभाग में करोड़ों के भ्रष्टाचार का बोलबाला है। सीजीएमएससी में 17 करोड़ की अनावश्यक दवाइयों के बिना निविदा खरीदी में भ्रष्टाचार और अनियमितता की शिकायत पर आज तक कोई कार्यवाही नहीं की गई है।

युवा जनता कांग्रेस ने खुलासा किया है कि टीबी रोगियों की पोषण आहार की खरीदी पर भारी भ्रष्टाचार किया गया है, जहां 300% अधिक दर पर पोषण आहार की खरीदी की गई थी। हालांकि इस मामले को आनन-फानन में दबा दिया गया।

युवा जनता कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष विनोद तिवारी ने मंत्री अजय चंद्राकर पर भी संरक्षण का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि युवा जनता कांग्रेस ने पूरे मामले पर अल्टीमेटम भी दिया है यदि यदि शीघ्र उचित कार्यवाही नहीं की गई तो 3 अप्रैल को एक बार फिर मंत्री अजय चंद्राकर का घेराव किया जाएगा।

दोषी को ही बना दिया जांच अधिकारी
विनोद तिवारी ने कहा कि मोक्षित कार्पोरेशन और आरसीबी कारपोरेशन द्वारा कंप्यूटर जनित फर्जी टर्नओवर सर्टिफिकेट के माध्यम से करोड़ों की निविदा हासिल की गई। यह दोनों ही कंपनी सीधी एमपी की गोद में बैठी हुई हैं। करोड़ों के भ्रष्टाचार के 2 महीने पूर्व शिकायत के बावजूद आज तक कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है।

इधर इस पूरे मामले की जांच करने वाले दोषी अधिकारियों को ही जांच अधिकारी बना दिया गया है जांच कमेटी में शामिल वीरेंद्र जैन को 115000 घूस लेने के मामले में जेल भेजा गया था, इन्हें जांच अधिकारी बना दिया गया है।

advt
Back to top button