आधुनिक, स्मार्ट और विकसित छत्तीसगढ़ बनाना हम सबका लक्ष्य : डॉ. रमन सिंह

रोशन सोनी

सीतापुर :

आज सीतापुर के जनता को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि छत्तीसगढ़ में बड़ी सोंच के साथ विकास के कार्य सुनिश्चित ढंग से कराये जा रहे हैं। इसके साथ ही सभी वर्गों के हितों को ध्यान में रखते हुए जनकल्याणकारी योजनाएं बनाई जा रही है,और उनका बेहतर क्रियान्वयन किया जा रहा है।

इन योजनाओं का लाभ जरूरत मंदो का मिलता है और इसका प्रभाव पूरे छत्तीसगढ़ में देखने का मिल रहा है। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने यह विचार आज सरगुजा जिले के सीतापुर जनपद पंचायत मुख्यालय के स्टेडियम ग्राउण्ड में आयोजित अटल विकास यात्रा के तहत आयोजित आमसभा में व्यक्त किये।

मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने इस अवसर पर सरगुजा क्षेत्र का प्रमुख त्यौहार करमा की बधाई और शुभकामनाएं देते हुए कहा कि सीतापुर में अटल विकास यात्रा के प्रति भव्य उत्साह देखा गया, जिसमें समाज की सभी वर्गो की भागीदारी परिलक्षित हो रही है।

उन्होंने कहा कि विकास यात्रा का प्रथम चरण बस्तर के दंतेवाड़ा से मॉं दंतेश्वरी का आर्शीवाद प्राप्त कर शुरू किया गया था और दूसरे चरण का अटल विकास यात्रा की शुरूआत डोंगरगढ़ से मॉ बमलेश्वरी का आर्शीवाद लेकर की गई थी।

डॉ.सिंह ने बताया कि अटल विकास यात्रा के द्वितीय चरण के तह 6 हजार किलोमीटर की यात्रा की जायेगी और 62 विधानसभा क्षेत्रों में अटल विकास यात्रा की जायेगी।

उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य का निर्माण पूर्व प्रधानमंत्री स्व. श्री अटलबिहारी बाजपेयी द्वारा किया गया था। छत्तीसगढ़ राज्य गठन के बाद यहां जो भी विकास कार्य हुएं हैं, उसके पीछे स्व. अटल जी का योगदान रहा है।

डॉ. सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य स्व. श्री बाजपेयी की देन है और इस लिए इस यात्रा का नाम अटल विकास यात्रा रखा गया है।

मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने छत्तीसगढ़ के ढाई करोड़ जनता को धन्यवाद देते हुए कहा कि उनके विश्वास के कारण ही मुझे छत्तीसगढ़ की सेवा करने का अवसर प्राप्त हुआ। उन्होंने कहा कि इस वर्ष 1 नवम्बर 2018 से समर्थन मूल्य पर धान खरीदी शुरू की जायेगी और धान खरीदने के साथ ही धान का बोनस भी किसानों के खाते में जमा करा दिये जायेंगे।

डॉ. सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा इस वर्ष धान का समर्थन मूल्य में 200 रूपये की बढ़ोतरीकी गई है, जिससे छत्तीसगढ़ के किसानों को धान का समर्थन मूल्य क्रमशः 1750 एवं 1770 रूपये तथा 300 रूपये बोनस मिलाकर प्रति क्विंटल मोटा धान का 2050 रूपये और पतला धान का 2070 रूपये प्रति क्विंटल प्राप्त होगा।

उन्होंने कहा कि किसानों को धान खरीदी के साथ ही धान का बोनस की राशि देने के लिए विधान सभा का विशेष सत्र बुलाकर 2400 करोड़ रूपये का प्रावधान धान बोनस के लिए किया गया है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ को छोड़कर हिन्दुस्तान में कोई ऐसा राज्य नहीं है जो 2050 और 2070 रूपये प्रति क्विंटल की दर से धान खरीदी करे।

उन्होंने कहा कि किसानों को शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर कृषि ऋण उपलब्ध कराया जाता है और 7 हजार 500 यूनिट तक की बिजली किसानों के सिंचाई पम्पों को निःशुल्क उपलब्ध कराया जाता है।

किसानों को एक दो या तीन पम्प होने पर भी फ्लेट रेट पर विद्युत की सुविधा दी जा रही है। उन्होंने यह भी बताया कि छत्तीसगढ़ के 12 लाख परिवारों को 30 यूनिट से अधिक खर्च करने पर भी 100 रूपये प्रतिमाह ही बिजली देयक का भुगतान करना होगा।

इन परिवारों को पहले 30 यूनिट से अधिक बिजली खर्च करने पर सामान्य दर पर बिजली देयक का भुगतान करना पड़ता था लेकिन अब 100 रूपये प्रतिमाह निर्धारित हो जाने पर बड़ी राहत मिलेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज किसानों के चहरे में खुशी और ऊमंग की भावना देखी जा रही है। पहले किसानों को यूरिया, डीएपी और खाद-बीज के लिए भटकना पड़ता था, लेकिन अब शून्य प्रतिशत कृषि ऋण की सुविधा के साथ ही किसानों को समय पर खाद बीज आसानी से प्राप्त हो जाता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरगुजा जिले के बतौली क्षेत्र में 133/32 के.व्ही. के अति उच्चदाब विद्युत उपकेन्द्र का आज उद्घाटन किया गया है और इस विद्युत उपकेन्द्र से सीतापुर, मैनपाट, बतौली और लुण्ड्रा के करीब 213 ग्रामों में गुणवत्तापूर्ण विद्युत प्राप्त होगा। मुख्यमंत्री ने बताया कि वनवासी क्षेत्रों के रहने वाले लोगों पर दर्ज छोटे-मोटे करीब 20 हजार प्रकरणों को समाप्त कराकर लोगों को राहत दी गई है।

उन्होंने कहा कि तेंदूपत्ता संग्रहण की दर 450 रूपये से बढ़ाते-बढ़ाते अब 2500 रूपये प्रति मानक बोरा कर दिया गया है, जिससे तेंदूपत्ता संग्राहकों को अच्छी आमदनी हो रही है। तेंदूपत्ता संग्राहकों को 7500 करोड़ रूपये का बोनस दिया जायेगा।

वहीं 12 लाख परिवारों को चरणपादुका का वितरण किया गया है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में बड़ी सोच को लेकर विकास के कार्य कराये जा रहे हैं और सन् 2025 में छत्तीसगढ़ कैसा होगा इसके लिए अटल दृष्टि-पत्र तैयार किये जायेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अटल दृष्टि-पत्र से बड़ी सोच बड़ी कल्पना के साथ रजत जयंती वर्ष 2025 तक छत्तीसगढ़ को आधुनिक विकसित और स्मार्ट बनाने का लक्ष्य रखा गया है। 15 साल के विकास के सफर में छत्तीसगढ़ के लोगों में एक भरोसा जगा है। उन्होंने उपस्थितजनों को विश्वास दिलाते हुए कहा कि अगले 5 साल में चार गुना ज्यादा विकास होगा।

उन्होंने कहा कि 1 रूपये किलो की दर से चावल देने से किसी गरीब परिवार का कोई भी सदस्य को भूखा सोने की नौबत नहीं आती है और मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत 50 हजार रूपये तक ईलाज की सुविधा मिल रही है। उन्होंने कहा कि आयुष्मान भारत योजना के तहत गरीब परिवारों को अब ह्रदय, घूटना, केन्सर आदि गंभीर बीमारी होने पर 5 लाख रूपये तक ईलाज की सुविधा मिलेगी। इसके साथ~साथ सरगुजा सांसद श्री कमलभान सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़ में गांव, गरीब, किसान मजदूर और सभी वर्गो के हित में विभिन्न योजनाएं संचातिल की जा रही है, जिनका लाभ लोगों को मिल रहा है। उन्होंने कहा कि किसानों को समर्थन मूल्य पर धान बेचने की सुविधा के साथ ही धान बोनस और महिलाओं को संचार क्रांति योजना के तहत मोबाईल वितरण करने से आज वे देश दुनिया से जुड़ रहे हैं और उनमें जागृति भी आ रही है।

कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर ने प्रगति प्रतिवेदन प्रस्तुत करते हुए कहा कि आज 455 करोड़ रूपये की लागत के विभिन निर्माण कार्यां का लोकार्पण और शिलान्यास किया गया है। इनमें लेंगू व्यपर्वतन, उडूमकेला, रकेली, बांसाझाल व्यवपर्वतन आदि शामिल हैं।

इनसे क्षेत्र के करीब 10 हजार किसानों को सिंचाई की सुविधा प्राप्त होगी। वहीं बतौली जनपद के काराबेल में 132/33 के.व्ही. के उपकेन्द्र निर्माण से लो वोल्टेज की समस्या से निजाद मिलेगी। उन्होंने बताया कि संचार क्रांति योजना के तहत 1 लाख 2 हजार 914 हितग्राहियों को स्मार्टफोन वितृत किया गया है तथा 35 हजार 230 तेंदूपत्ता संग्राहकों को तेंदूपत्ता बोनस वितरित किया गया है।

इस अवसर पर प्रदेश के गृह, जेल एवं लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी तथा जिले के प्रभारी मंत्री श्री रामसेवक पैकरा, जिला पंचायत अध्यक्ष फुलेश्वरी सिंह, पूर्व विधायक प्रोफेसर गोपाल राम,उपाध्यक्ष प्रभात खलखो, संभागायुक्त टामन सिंह सोनवानी, सरगुजा रेंज के पुलिस महानिरीक्षक हिमांषु गुप्ता, पुलिस अधीक्षक सदानन्द कुमार, जिला पंचायत की मुख्यकार्यपालन अधिकारी नम्रता गांधी, वनमण्डलाधिकारी प्रियंका पाण्डेय छत्तीसगढ़ हस्तषिल्प विकास बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष अनिल सिंह मेजर, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के संचालक अखिलेष सोनी, भारत स्काउट गाईड के जिलाध्यक्ष अनुराग सिंह देव, और जनप्रतिनिधि तथा बड़ी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित थे।

Back to top button