टेक्नोलॉजीराष्ट्रीय

क्रेडिट कार्ड के गुम या चोरी होने का खतरा, नजदीकी पुलिस स्टेशन में करें शिकायत

टरनेशनल आउटलेट्स और शॉपिंग के लिए भी पिन की जरूरत नहीं

नई दिल्ली: क्रेडिट कार्ड के गुम या चोरी होने का खतरा बना रहता है. ये बात तो सही है कि चोरी हुए क्रेडिट कार्ड से पैसा निकालने या खरीदारी करने के लिए पिन डालना जरूरी है. लेकिन सुरक्षा का ये फीचर नाकाफी है. बेहद कम लोगों को पता है कि आपके क्रेडिट कार्ड से बिना पिन भी ट्रांजेक्शन हो सकते हैं.

पिन की जरूरत नहीं पड़ती इन ट्रांजेक्शन्स में

जानकारों का कहना है कि ज्यादातर अंतरराष्ट्रीय होटल्स में पेमेंट के लिए क्रेडिट कार्ड के पिन की जरूरत नहीं होती. कोई भी आपके इंटरनेशनल क्रेडिट कार्ड को विदेशों में बिना किसी समस्या के इस्तेमाल कर सकता है. जानकार बताते हैं कि कई इंटरनेशनल आउटलेट्स और शॉपिंग के लिए भी पिन की जरूरत नहीं पड़ती. ऐसे में अपने क्रेडिट कार्ड्स पर नजर बनाए रखना बेहद जरूरी है.

2 हजार से कम के ट्राजेक्शन आसानी से

गुम हुए क्रेडिट कार्ड की एक समस्या ये है कि कोई भी व्यक्ति आपके कार्ड से 2 हजार रुपये से कम का ट्रांजेक्शन बड़ी आसानी से कर सकता है. नए नियमों के मुताबिक कॉन्टेक्टलेस ट्रांजेक्शन के तहत 2 हजार रुपये से कम की खरीदारी में पिन डालने की जरूरत नहीं होती.

बैंक या कंपनी को तुरंत जानकारी दें

अगर आपका क्रेडिट कार्ड खो जाए या चोरी हो जाए तो तत्काल बैंक को इसकी जानकारी दें और इसे ब्लॉक कराएं.

कई तरीकों से कर सकते हैं कार्ड ब्लॉक

क्रेडिट कार्ड को कई तरीकों से ब्लॉक किया जा सकता है. जैसे कस्टमर केयर को कॉल करना, तय फॉर्मेट में एक SMS भेजना. बैंक की इंटरनेट बैंकिंग सुविधा और ऐप के जरिये कार्ड ब्लॉक करा सकते हैं. इसमें कुछ ही मिनट लगते हैं. क्रेडिट कार्ड को ब्लॉक करना न केवल धोखाधड़ी वाले लेनदेन को रोकता है, बल्कि कार्ड के दुरुपयोग से कार्ड के मालिक को भी बचाता है.

पुलिस में करें शिकायत

कार्ड ब्लॉक होने के बाद, कार्ड के मालिक को नजदीकी पुलिस स्टेशन में पहली सूचना रिपोर्ट (FIR) करानी चाहिए. एफआईआर कॉपी चोरी के सबूत के रूप में काम करती है और शिकायतकर्ता को किसी भी संभावित दुरुपयोग और धोखाधड़ी से बचाती है. इसके अलावा, अगर बैंक की तरफ से डिमांड की जाती है तो एफआईआर की एक कॉपी काम आ सकती है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button