First Class Cricket : मलिंडा पुष्पकुमारा ने बरपाया अपनी गेंदबाजी से कहर

उन्होंने फर्स्ट क्लास क्रिकेट में संयुक्त रूप से 13वां श्रेष्ठ प्रदर्शन किया।

श्रीलंका के इंटरनेशनल क्रिकेटर मलिंडा पुष्पकुमारा ने कहर बरपाती हुई गेंदबाजी करते हुए फर्स्ट क्लास क्रिकेट में एक पारी में पूरे 10 विकेट लेने का करिश्मा कर दिखाया।

वे इसी के साथ यह स्पेशल करिश्मा करने वाले चुनिंदा गेंदबाजों के ग्रुप में शामिल हो गए। उन्होंने फर्स्ट क्लास क्रिकेट में संयुक्त रूप से 13वां श्रेष्ठ प्रदर्शन किया।

24 वर्षीय बाएं हाथ के स्पिनर पुष्पकुमारा ने कोलंबो क्रिकेट क्लब की तरफ से साराकेंस स्पोर्ट्स क्लब के खिलाफ दूसरी पारी में 18.4 ओवर डालते हुए 37 रन देकर 10 विकेट लिए।

उन्होंने एक छोर से लगातार गेंदबाजी की और साराकेंस की पारी को 36.4 ओवरों में समेटने में अहम भूमिका निभाई।

उन्होंने इस मैच की पहली पारी में 6 विकेट लिए थे। इस तरह उन्होंने मैच में कुल 110 रन देकर 16 विकेट लिए थे।

साराकेंस के बाएं हाथ के स्पिनर चामिकारा इदिरीसिंघे भी इस मैच में इसी उपलब्धि को हासिल करने से चूक गए,

उन्होंने कोलंबो क्रिकेट क्लब के शुरुआती 9 विकेट लिए लेकिन साथी गेंदबाज एशेन बंडारा ने 10वां विकेट लेकर उन्हें इस उपलब्धि को हासिल करने से वंचित कर दिया।

पुष्पकुमारा ने इस मैच के दौरान फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 700 विकेट पूरे कर लिए। वे अब तक 123 मैचों में 19.19 की औसत से 715 विकेट ले चुके हैं। उन्होंने श्रीलंका का 4 टेस्ट मैच और 2 वनडे में प्रतिनिधित्व किया था।

फर्स्ट क्लास क्रिकेट में इससे पहले पाकिस्तान के जुल्फिकार बाबर ने पारी में सभी 10 विकेट लिए थे। उन्होंने 2009-10 में कायदे-आजम ट्रॉफी में मुल्तान की तरफ से इस्लामाबाद की पहली पारी में यह कमाल किया था।

टेस्ट क्रिकेट में सिर्फ दो गेंदबाज इंग्लैंड के जिम लेकर और भारत के अनिल कुंबले यह करिश्माई प्रदर्शन कर पाए हैं।

जिम लेकर ने 1956 में ओल्ड ट्रेफर्ड में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 56 रनों पर 10 विकेट झटके थे।

43 साल बाद कुंबले ने नई दिल्ली में पाकिस्तान के खिलाफ 74 रनों पर 10 विकेट लेते हुए उनके रिकॉर्ड की बराबरी की थी।

1
Back to top button