‘कुछ ऐसे’ शाहरुख खान ने आईपीएल नीलामी में मारी अपने पैरों पर कुल्हाड़ी!

इंडियन प्रीमियर लीग 2018 की दो दिन खिलाड़ियों की बहुत ही रोमांचक नीलामी चली. और पूरी दुनिया के क्रिकेटप्रेमियों की नजरें अपने-अपने चहेते खिलाड़ियों पर लगी रहीं.

नई दिल्ली: इंडियन प्रीमियर लीग 2018 की शनिवार और रविवार दो दिन चली खिलाड़ियों की नीलामी बहुत ही रोमांचक रही. और पूरी दुनिया के क्रिकेटप्रेमियों की नजरें अपने-अपने चहेते खिलाड़ियों पर लगी रहीं.

क्रिकेटप्रेमी अभी भी अपनी-अपनी पसंदीदा टीमों को लेकर चर्चा कर रहे हैं. अपने अंदाज में टीमों का पोस्टमार्टम कर रहे हैं. बोली खत्म होने के बाद दो टीमों की अलग बात को ही लेकर चर्चा हो रही है. और क्रिकेटप्रेमी यहां तक कह रहे हैं कि केकेआर के मालिक और किंग खान शाहरुख खान ने अपने पैरों पर खुद ही कुल्हाड़ी मार ली है.

[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”अगर आप पढ़ना नहीं चाहते तो क्लिक करे और सुने”]

अब यह तो आप जानते ही हैं कि नीलामी के दूसरे दिन तीसरी बोली में क्रिस गेल को कैसे जैसे-तैसे किसी तरह बिकवाया गया. अब जब क्रिस गेल पंजाब टीम में आ गए हैं, तो वह कप्तानी के दावेदारों में भी शामिल हो गए हैं.

पंजाब ने इस सेशन में खिलाड़ियों की खरीद पर जमकर पैसा बहाया. लेकिन सवाल यह है कि टीम का कप्तान कौन होगा. ध्यान दिला दें कि रविचंद्रन अश्विन को पंजाब ने 7.60 करोड़ में खरीदा, तो युवराज को उनके बेस प्राइस 2.00 करोड़ में खरीदा गया.

वहीं टीम में दक्षिण अफ्रीकी डेविड मिलर भी हैं. इसमें कोई शक नहीं कि अश्विन और युवराज के बीच कप्तानी के लिए बड़ा मुकाबला है. अब देखने की बात यह होगी पंजाब का होना युवी के पक्ष में जाता है, या अश्विन की भारी-भरकम राशि और उनकी विकेट चटाकने की योग्यता उनके पक्ष में जाती है.

क्रिकेटप्रेमियों में सबसे ज्यादा चर्चा है कि केकेआर ने इस सेशन में टूर्नामेंट शुरू होने से पहले खुद ही पैरों पर कुल्हाड़ी मार ली है. इसके पीछे वजह है कि केकेआर का दो बार खिताब जीने वाले कप्तान गौतम गंभीर को रिटेन न करना.

गौतम गंभीर ने अपनी कप्तानी के आक्रामक तेवरों से टीम के मिजाज और चाल-चलन पूरी तरह बदल कर रख दिया था. अब न तो केकेआर ने गंभीर के कद का खिलाड़ी ही खरीदा, और न ही नीलामी के दौरान टीम मैनेजमेंट की इसको लेकर कोई रणनीति ही दिखाई पड़ी.

वास्तव में दो बार खिताब दिलाने वाले कप्तान के रिप्लेसमेंट को लेकर केकेआर प्रबंधन को मजबूती से काम करना चाहिए था. केकेआर ने गंभीर की कप्तानी में 2012 और 2014 में दो बार खिताब जीता था.

केकेआर ने दिनेश कार्तिक को 7.4 करोड़ की मोटी रकम में खरीदा है, लेकिन इसके बावजूद सवाल यह है कि केकेआर की कमान कौन संभालेगा. और सबसे बड़ा सवाल कि क्या गौतम गंभीर के न रहने से आया खालीपन नया कप्तान भर पाएगा.

1
Back to top button