फ्लोरिडा शूटिंग: भारतीय मूल की महिला टीचर ने ऐसे बचाई बच्चों की जान

अमेरिका में फ्लोरिडा के हाई स्कूल में एक छात्र द्वारा गोलियां बरसाए जाने के बीच भारतीय मूल की एक महिला टीचर की सूझबूझ की प्रशंसा हो रही है. इस गोलीबारी में 17 लोगों की मौत हो गई.

अमेरिका में फ्लोरिडा के हाई स्कूल में एक छात्र द्वारा गोलियां बरसाए जाने के बीच भारतीय मूल की एक महिला टीचर की सूझबूझ की प्रशंसा हो रही है. इस गोलीबारी में 17 लोगों की मौत हो गई. बंदूकधारी हमलावर 19 वर्षीय पूर्व छात्र था, जिसे स्कूल प्रबंधन ने निकाल दिया था. यह घटना बुधवार को देर रात हुई.

फ्लोरिडा के पार्कलैंड में स्थित मार्जरी स्टोनमैन डगलस हाई स्कूल में गणित पढ़ाने वाली भारतीय मूल की महिला टीचर शांति विश्वनाथन इस भयंकर हादसे में हीरो बनकर उभरी हैं.

इस तरह बचाई बच्चों की जान

14 फरवरी को शांति विश्वनाथन हमेशा की तरह अपना क्लास ले रही थीं. इस बीच स्कूल में लगा अलार्म जब दूसरी बार बजा तो वह चौंकन्नी हो गईं और उन्हें कुछ गड़बड़ होने का संदेह हुआ.

उन्होंने फौरन क्लासरूम का दरवाजा अंदर से बंद कर लिया और छात्रों को फर्श पर लेट जाने के लिए कहा. साथ ही उन्होंने क्लासरूम की सारी खिड़कियों के परदे खींच दिए, जिससे कि हमलावर की नजर में वह क्लासरूम आए ही नहीं.

शांति विश्वनाथन के एक छात्र की मां डॉन जेरोब के मुताबिक, उन्होंने तुरंत सूझबूझ से काम लिया और सही दिशा में दिमाग चलाया. उन्होंने ढेर सारे बच्चों की जान बचा ली.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, घटना की सूचना पाकर घटनास्थल पर पहुंची पुलिस की स्पेशल सेल (स्वाट) की टीम जब शांति विश्वनाथन के क्लासरूम के पास पहुंची और दरवाजा खोलने के लिए कहा तब भी शांति विश्वनाथन ने दरवाजा नहीं खोला.

दरअसल, शांति विश्वनाथन कोई जोखिम नहीं लेना चाहती थीं. उन्होंने सोचा कि हमलावर खुद को पुलिस बताकर क्लासरूम में घुसना चाहता है. उन्होंने कहा कि वे या तो दरवाजा तोड़कर अंदर आएं या दरवाजे के ताले की चाबी ले आएं, क्योंकि वह दरवाजा नहीं खोल पा रही हैं.

इसके बाद स्वात टीम के एक पुलिसकर्मी ने खिड़की के जरिए क्लासरूम में प्रवेश किया और बच्चों एवं शांति विश्वनाथन को वहां से सुरक्षित निकाला.

स्कूल की ही पूर्व छात्र था हमलावर

ब्रोवर्ड काउंटी के शेरिफ स्कॉट इजरायल ने बताया कि बंदूकधारी की पहचान निकोलस क्रूज के रूप में की गई है, जो पहले इसी स्कूल का छात्र रहा है. क्रूज को अनुशासनहीनता के चलते प्रबंधन ने निकाल दिया था.

पुलिस मामले की जांच-पड़ताल कर रही है, लेकिन अब तक हमले की मंशा का पता नहीं लग सका है. हालांकि अब तक की जांच में यह खुलासा जरूर हुआ है कि निकोलस क्रूज का बचपन बदमाशियों से भरा रहा है और यूट्यूब पर एक वीडियो अपलोड कर उसने स्कूलों में गोलीबारी की धमकी भी दी थी.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, निकोलस के स्कूल में गोलीबारी करने की धमकी भरा यूट्यूब वीडियो सामने आने के बाद FBI में इसकी शिकायत की गई थी. लेकिन FBI ने वीडियो अपलोड करने वाले की पहचान किए बगैर मामले की जांच बंद कर दी थी.

new jindal advt tree advt
Back to top button