दो फर्मों द्वारा फर्जी तरीके से बैंक गारंटी जमा करके करोड़ों का काम

रायपुर: छत्तीसगढ़ पाठ्य पुस्तक निगम से लेकर मंत्रालय तक में इस समय हड़कंप मचा हुआ है. खबर है कि प्रिंटिंग के काम के लिए पाठ्य पुस्तक निगम ने तीन फर्मों से 20-20 लाख रुपये की बैंक गारंटी मांगी, जिसमें से एक फर्म ने 20 लाख रुपये की बैंक गारंटी दी, जबकि बाकी दो फर्मों ने एक ही बैंक गारंटी देकर करोड़ों का काम ले लिया.

बताया जा रहा है इसमें से एक फर्म पाठ्य पुस्तक निगम में चर्चित रहे एक अधिकारी के रिश्तेदार का है. हालांकि इस बात की पुष्टि कोई भी प्रशासनिक अधिकारी नहीं कर रहा है.

फर्म से जुड़े करीबी लोग अधिकारियों के साथ सांठगांठ करके मामले की लीपापोती में जुट गए हैं. इस मामले में गड़बड़ी करने वालों का जेल जाना तय है. इसलिए इसे दबाने में उन लोगों ने अपनी पूरी ताक़त झोंक दी है.

शिक्षा विभाग के प्रमुख अधिकारी आलोक शुक्ला ने कहा कि उन्हें इस घटना की जानकारी नहींं है. वे घटना की जानकारी लेंगे, अगर ये घटना हुई हुई तो बेहद गंभीर है. इस बारे में हमने पाठ्य पुस्तक निगम की प्रबंध संचालक इफ्फत आरा से बात करने की कोशिश की, लेकिन उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया.

Tags
Back to top button