छत्तीसगढ़

बस्तर की सीआरपीएफ अफसर करेंगी सायबर सेल में शिकायत

फेसबुक पर अपनी फर्जी प्रोफाइल बनाने वाले हैं परेशान

जगदलपुर :बस्तर की पहली सीआरपीएफ अधिकारी ऊषा किरण इन दिनों फेसबुक पर उनकी फर्जी प्रोफाइल बनाने वाले से परेशान हैं । ऐसा चार-चार बार हो चुका है। तीन बार तो उन्होंने फेसबुक पर रिपोर्ट कर उसे हटवाया लेकिन शनिवार को किसी अज्ञात शख्स नेबस्तर की सीआरपीएफ अफसर करेंगी सायबर सेल में शिकायत यह हरकत दोहराई है। महिला अफसर हैरान और परेशान हैं। वे अब हार कर साइबर सेल में शिकायत करने जा रही हैं।
उन्होंने कहा कि,फर्जी प्रोफाइल बनाने वाले व्यक्ति ने उनके कई फोटोग्राफ्स का इस्तेमाल किया है। कई फोटोग्राफ्स में वे वर्दी पहने हुए हैं, उनका कहना है कि, ज्यादातर तस्वीरें सार्वजनिक स्थलों पर और आधिकारिक कार्यक्रमों के दौरान ली गई हैं। पहली दूसरी बार जब उन्होंने अपनी प्रोफाइल एफबी पर देखी तो उन्हें आश्चर्य हुआ। उन्होंने अपने एफबी फ्रेण्डस के माध्यम से रिपोर्ट कर उसे हटवाया।

क्या लिखा इस अधिकारी ने :
शनिवार को फिर नई प्रोफाइल देख कर उन्होंने अपने वाल पर लिखा कि, मित्रों से एक गंभीर विनती है। आज ही मैं ड्य़ूटी से लौटी हूं और नेटवर्क जोन में आई हूं। आते ही मुझे फिर से फेसबुक पर अपनी एक नई फर्जी प्रोफाइल दिखाई दी। यह पता नहीं कोई महिला है या पुरुष जो इस तरह की हरकत कर रहा है। जो भी है उसका मानसिक संतुलन बिगड़ा हुआ है। रात भर में इस फर्जी प्रोफाईल से 600 मित्र जुड़ चुके हैं।

एफआईआर दर्ज कराने की तैयारी :
ऊषा किरण इस दिनों छुट्टी पर गुरूग्राम में हैं और उस अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाने वाली हैं। ऊषा किरण बस्तर में तैनात सीआरपीएफ 80 वीं बटालियन में असिस्टेंट कमांडेंट के तौर पर ट्रेनिंग के दौरान अपनी सेवाएं दे चुकी हैं । उसके बाद 235 महिला बटालियन में शामिल हुई। प्रशिक्षण के बीच उन्होंने अपने वरिष्ठ अधिकारियों के समक्ष उग्रवाद प्रभावित राज्य जम्मू कश्मीर या नक्सल प्रभावित बस्तर इलाके में काम करने की इच्छा जाहिर की थी। तत्पश्चात दिनेशालय ने उन्हें बस्तर में नक्सल फ्रंट में सेवा देने की अनुमति दी।

Summary
Review Date
Reviewed Item
बस्तर की सीआरपीएफ अफसर करेंगी सायबर सेल में शिकायत
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *