CSK ने हैदराबाद को हराकर किया फाइनल में प्रवेश

मुंबईः फाफ डू प्लेसिस की नाबाद 67 रन की कमाल की पारी से चेन्नई सुपरकिंग्स ने सनराइजर्स हैदराबाद को पहले क्वालीफायर में मंगलवार को पांच गेंद शेष रहते दो विकेट से हराकर आईपीएल 11 के फाइनल में प्रवेश कर लिया। डू प्लेसिस ने विजयी छक्का मारा। डू प्लेसिस ने मात्र 42 गेंदों पर पांच चौके और चार छक्के उड़ाते हुए नाबाद 67 रन की मैच विजयी पारी खेली। हैदराबाद को सात विकेट पर 139 रन पर रोकने के बाद चेन्नई ने 19.1 ओवर में आठ विकेट पर 140 रन बनाकर मैच जीत लिया। डू प्लेसिस इस पारी के लिए मैन ऑफ द मैच रहे।

डू प्लेसिस का अच्छा साथ दिया शार्दुल ठाकुर ने जिन्होंने 19वें ओवर में तीन चौके लगाने सहित पांच गेंदों में नाबाद 15 रन बनाये। दो बार चैंपियन रहे चेन्नई ने इस तरह सातवीं बार फाइनल में जगह बनाई। इस हार के बावजूद हैदराबाद के पास दूसरा मौका रहेगा। हैदराबाद की टीम अब कोलकाता और राजस्थान के बीच एलिमिनेटर के विजेता से दूसरे क्वालीफायर में खेलेगी। दूसरे क्वालीफायर की विजेता टीम 27 मई के फाइनल में चेन्नई से भिड़ेगी।

इससे पहले चेन्नई सुपरकिंग्स के गेंदबाजों ने कार्लोस ब्रेथवेट के आखिरी ओवरों की आक्रामक बल्लेबाजी के बावजूद सनराइजर्स हैदराबाद को आईपीएल के पहले क्वालीफायर्स में आज यहां सात विकेट पर 139 रन ही बनाने दिये। पिच बल्लेबाजी के लिये आसान नहीं थी। गेंद रुककर बल्ले पर आ रही थी जिससे शाट लगाना आसान नहीं था। चेन्नई के गेंदबाजों ने सही लाइन और लेंग्थ से गेंदबाजी करके सनराइजर्स की मुश्किलें बढ़ायी। सनराइजर्स अगर सम्मानजनक स्कोर तक पहुंच पाया तो इसका श्रेय ब्रेथवेट को जाता है जिन्होंने चार छक्कों की मदद से 29 गेंदों पर नाबाद 43 रन बनाये। उनके अलावा कप्तान केन विलियमसन और यूसुफ पठान (दोनों 24 रन) ही 20 रन की संख्या पार कर पाये। चेन्नई की तरफ से ड्वेन ब्रावो ने 25 रन देकर दो विकेट लिये जबकि रविंद्र जडेजा (13 रन देकर एक) और लुंगी एनगिडी (20 रन देकर एक) ने किफायती गेंदबाजी की।

ब्रावो ने चेन्नई के लिए सर्वाधिक विकेट : पहले बल्लेबाजी का न्यौता पाने वाले सनराइजर्स ने पहले पांच ओवरों में ही शिखर धवन और बेहतरीन फार्म में चल रहे कप्तान विलियमसन सहित तीन विकेट गंवा दिये। धवन पारी की पहली गेंद पर बोल्ड हो गये। दीपक चाहर की गुडलेंथ गेंद पर वह पुश करना चाहते थे लेकिन वह उनकी गिल्लियां बिखेर गयी। श्रीवत्स गोस्वामी (12) ने एनगिडी को वापस कैच थमाया। सनराइजर्स को करारा झटका ठाकुर ने दिया हालांकि इसमें विलियमसन (15 गेंदों पर 24) की गलती थी जिन्होंने लेग साइड की तरफ जा रही शार्ट पिच गेंद को फाइन लेग पर चार रन लेने के लिये भेजने के प्रयास में महेंद्र सिंह धोनी को कैच दिया। विलियमसन ने चाहर के पहले ओवर में लगातार तीन चौके जड़कर अपने तेवर दिखाये थे। शाकिब अल हसन (12) आउट होने वाले अगले बल्लेबाज थे जिन्होंने ड्वेन ब्रावो की लेग स्टंप से बाहर जाती गेंद पर धोनी को कैच दिया। इससे सातवें ओवर में स्कोर चार विकेट पर 50 रन हो गया। ब्रावो का यह चेन्नई की तरफ से 91वां विकेट था और वह रविचंद्रन अश्विन (90 विकेट) को पीछे छोड़कर इस आईपीएल टीम की तरफ से सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज बन गये हैं।

ठाकुर ने 4 ओवर में लुटाए 50 रन : पहले दस ओवर के बाद सनराइजर्स का स्कोर चार विकेट पर 64 रन था जो जल्द ही पांच विकेट पर 67 रन हो गया। बेहद सतर्कता बरत रहे मनीष पांडे (16 गेंदों पर आठ रन) ने रविंद्र जडेजा को वापस कैच थमाया। पांडे और पठान दोनों रन बनाने लिये जूझ रहे थे जिसके कारण पावरप्ले समाप्त होने के बाद अगले छह ओवर में केवल 20 रन बने। इस बीच गेंद सीमा रेखा तक भी नहीं पहुंची। पठान (29 गेंदों पर 24) ने डेथ ओवरों के लिये लंबे शाट खेलने की योजना बनाई थी लेकिन ब्रावो ने इससे पहले ही उनके करारे शाट को कैच में तब्दील कर दिया। पारी का पहला छक्का 18वें ओवर में लगा। ब्रेथवेट ने ठाकुर की पहली दो गेंदों को गगनदायी छक्कों के लिए भेजा। इनमें से पहले छक्के से टीम का स्कोर 100 रन के पार पहुंचा। उन्होंने इस गेंदबाज के पारी के आखिरी ओवर में भी दो छक्के लगाये। ठाकुर ने अपने चार ओवर में 50 रन लुटाये।

new jindal advt tree advt
Back to top button