राष्ट्रीय

चक्रवाती तूफान ‘बुलबुल’ ने पश्चिम बंगाल में मचाया तांडव, सात लोगों की मौत

आसपास के इलाकों का हवाई सर्वेक्षण करेंगी मुख्यमंत्री ममता बनर्जी

कोलकाता:दक्षिण-पूर्व बांग्लादेश और उससे सटे दक्षिण त्रिपुरा में आज सुबह 05:30 बजे गहरे विक्षोभ की स्थिति बन गई. चक्रवात बुलबुल अगले 6 घंटों के दौरान कम में कमजोर हो जाएगा.

वहीं पश्चिम बंगाल के तीन जिलों में चक्रवाती तूफान बुलबुल ने ऐसा तांडव मचाया कि सात लोगों की मौत हो गई और 2.73 लाख लोग इसकी चपेट में आ गए. चक्रवात की तबाही से दक्षिण 24 परगना जिले के नामखाना इलाके में हतानिया दौनिया नदी पर बना एक ब्रिज धराशायी हो गया.

आपदा प्रबंधन मंत्री जावेद खान ने कहा कि 2.73 लाख लोग प्रभावित हैं, जबकि 1.78 लाख लोग 471 राहत शिविरों में शरण लिए हुए हैं. बेघर हुए लोगों के भोजन के लिए राज्य सरकार 373 सामुदायिक रसोई चला रही है.

खान ने बताया कि 2,470 घर क्षतिग्रस्त हो गए हैं. वहीं, खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री ज्योतिप्रिय मल्लिक ने बताया कि तूफान से बशीरहाट उपमंडल के गांव सबसे ज्यादा प्रभावित हैं. इस उपमंडल में कम से कम 3,100 घर ध्वस्त हो गए हैं.

मल्लिक ने बशीरहाट के बुलबुल प्रभावित इलाकों का दौरा करने के बाद रविवार को कहा कि संदेशखाली की बुरी हालत है. उन्होंने कहा, “खेतों में लगी फसलों की भारी बर्बादी हुई है. संकट से उबरने के लिए हम युद्धस्तर पर कार्य कर रहे हैं.”

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सोमवार को दक्षिण 24 परगना जिले में नामखाना और बखाली के आसपास के इलाकों का हवाई सर्वेक्षण करेंगी. ये इलाके चक्रवाती तूफान बुलबुल से गंभीर रूप से प्रभावित हैं. ममता ने ट्विटर पर कहा कि तूफान के कारण उन्होंने आगामी सप्ताह में उत्तर बंगाल का अपना दौरा स्थगित करने का निर्णय लिया है.

Tags
Back to top button