तीन जून को महाराष्ट्र के तटीय इलाकों में दस्तक दे सकता है चक्रवात निसर्ग

मौसम विभाग ने मुंबई और आस-पास के जिलों को रखा हाई अलर्ट पर

मुंबई: चक्रवात निसर्ग को देखते हुए महाराष्ट्र के सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाले जिलों में नौ दल तैनात कर दिए हैं। तीन दल मुंबई में, दो पालघर, एक ठाणे, एक रायगढ़, एक रत्नागिरी और एक सिंधुदुर्ग में एनडीआरएफ ने बचाव कार्य दल तैनात कर दिए हैं। 

मौसम विभाग ने मुंबई और आस-पास के जिलों को हाई अलर्ट पर रखा है। मुख्यमंत्री कार्यालय ने बताया कि गृहमंत्री अमित शाह ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग पर बात की है और राज्य की तैयारियों का जायजा लिया है।

एनडीआरएफ महाराष्ट्र सरकार के राहत और पुर्नवास विभाग के साथ मिलकर काम कर रहा है। एनडीआरएफ इन जिलों के स्थानीय अधिकारियों के साथ मिलकर पहले से अपनी तैयारी में जुटी है। 

एनडीआरएफ के महानिदेशक एस एन प्रधान ने कहा कि निसर्ग एक भयानक चक्रवात है और 90-100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने की उम्मीद है। प्रधान ने बताया कि वो अपनी टीम के साथ महाराष्ट्र और गुजरात के तटीय इलाकों के आस-पास से लोगों को निकालने का काम कर रहे हैं।

एनडीआरएफ ने बताया कि इस समय देश में कोरोना वायरस संकट भी चल रहा है, इसलिए हमारी कोशिश यही रहेगी कि इस संकट के दौर में बिजली की कटौती ना हो। मुख्यमंत्री कार्यालय ने एक बयान में कहा कि मछुवारों को समुद्र से वापस आने के लिए बोल दिया गया है, ताकि इस चक्रवात में किसी एक की भी जान ना जाए।

बयान में बताया गया कि जो अस्पताल कोरोना वायरस मरीजों का इलाज नहीं कर रहे हैं, उन्हें चक्रवात से प्रभावित लोगों के लिए तैयार किया गया है। सोमवार को भारतीय मौसम विभाग ने चेताया था कि अरब सागर पर कम दवाब बन रहा है और यह अगले 36 घंटों में चक्रवात जैसा रूप ले सकता है।

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
Back to top button