चक्रवाती तूफान टाउते: देश के कई राज्यों में रुक-रुक कर लगातार हो रही बारिश

मध्यम तीव्रता की बारिश की संभावना बन रही है

नई दिल्ली:चक्रवाती तूफान टाउते को देखते हुए मौसम विभाग ने दिल्ली के साथ-साथ अन्‍य राज्यों के लिए अलर्ट जारी किया है. देश के कई राज्यों में रुक-रुक कर लगातार बारिश हो रही है. इस चक्रवाती तूफान का असर हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान सहित दिल्ली-एनसीआर पर भी पड़ा है.

आईएमडी (IMD) के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और उसके आसपास के क्षेत्रों में हल्‍के से मध्‍यम दर्जे की बारिश हो सकती है. दिल्ली एनसीआर के अलावा हरियाणा के यमुनानगर, कुरुक्षेत्र, कैथल, करनाल और पानीपत में भारी बारिश की संभावना जताई गई है. इस दौरान 20-30 किमी/घंटा की गति से हवाएं भी चलने का पूर्वानुमान है.

मौसम विभाग के ताजा अपडेट के अनुसार, रोहतक, सिवानी, तोशाम, भिवानी, चरखी दादरी, गन्नौर, फतेहाबाद, बरवाला, नरवाना, राजौंद, असंध, सफीदों, जींद, गोहाना, खरखोदा, आदमपुर, हिसार, हांसी, महम और हरियाणा के अन्‍य इलाकों में भी गरज के साथ बारिश हो सकती है.

चक्रवाती तूफान टाउते के चलते हरियाणा के कई हिस्‍सों में कुछ दिनों से लगातार बारिश हो रही है. ऐसे में मौसम विभाग ने हरियाणा के अनेक जिलों में शुक्रवार को भी बारिश होने की संभावना जताई है.

उत्तर प्रदेश और राजस्थान के कई इलाकों में भी बारिश होने की संभावना जताई गई है. मौसम विभाग का कहना है कि उत्तर प्रदेश के खतौली, दौराला, मेरठ, मोदीनगर, अमरोहा, गढ़मुक्तेश्वर, सियाना, हापुड़, पिलाखुआ, सहसवां, नरौरा, अनूपशहर, जहांगीराबाद, बुलंदशहर, गुलाटी और बरसाना में गरज के साथ बारिश हो सकती है. साथ ही राजसथान के कोटपुतली, भिवाड़ी, अलवर और तिजारा हल्की से मध्यम तीव्रता की बारिश की संभावना बन रही है.

मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है

वहीं, कल खबर सामने आई थी कि साउथ दिल्ली से हरियाणा के फरीदाबाद को जोड़ने वाले “महरौली बदरपुर मार्ग ” को प्रह्लादपुर-बदरपुर के पास बंद कर दिया गया है. दरअसल बीते बुधवार जिस तरह से राजधानी दिल्ली में बारिश हुई थी ,उसे के मद्देनजर प्रह्लादपुर इलाके में स्थित रेलवे ब्रिज के नीचे करीब चार फुट पानी भर गया है.

लिहाजा मामले की गंभीरता को देखते हुए उस मार्ग को फिलहाल दोनों तरफ से बंद कर दिया गया है, जिसके वजह से फरीदाबाद की ओर जाने वाले लोगों को, इसके साथ ही तुगलकाबाद कस्टम ऑफिस, डिपो जाने वाले ट्रक और आम लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button