राज्य

दलितों कि सभा में हंगामा, अमित शाह को बीच में रोकना पड़ा भाषण

मैसूर में आज दलितों के एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे. इसी बीच एक व्यक्ति सवाल पूछा कि "केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े संविधान बदलना चाहते हैं, फिर भी अब तक उनकी कैबिनेट में जगह क्‍यों बरकरार है"

कर्नाटक: बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह का परेशानिया छोड़ने नाम ही नहीं ले रही हैं पहले उनकी जुबान फिसली, फिर ट्रांसलेटर द्वारा गलती, और अब उन्हें दलितों का सामना करना पड़ा.

मामला यह कि अमित शाह मैसूर में आज दलितों के एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे. इसी बीच एक व्यक्ति सवाल पूछा कि “केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े संविधान बदलना चाहते हैं, फिर भी अब तक उनकी कैबिनेट में जगह क्‍यों बरकरार है”. उस व्यक्ति ने कहा अनंत कुमार को बाहर का रास्‍ता दिखाइये या बताइये क्‍या बीजेपी अनंत कुमार के बयान से सहमत है?

इसके बाद उस व्यक्ति का माइक उससे छीन लिया गया. और सिक्‍युरिटी द्वारा शख्‍स को बाहर निकला जा रहा था जिस पर भरी हंगामा हुआ. और कई दलित सदस्‍य अपनी सीटों से उठकर बाहर चल गए. और हंगामा करने लगे.

इससे पहले भी कर्नाटक में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में अमित शाह ने कांग्रेस के सीएम सिद्धारमैया की जगह बीजेपी के नेता बीएस येदियुरप्पा को जो कि चुनाव में भी बीजेपी के सीएम चेहरा हैं उन्ही को भ्रष्ट बता दिया.<>

वहीं दूसरी बार गलती उनके ट्रांसलेटर से हुई. दवानागिरी की रैली में अमित शाह ने सिद्धारमैया सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि “सिद्धारमैया सरकार कर्नाटक का विकास नहीं कर सकती. आप मोदी जी पर विश्वास करके येदुरप्पा को वोट दीजिये. हम कर्नाटक को देश का नंबर वन राज्य बनाकर दिखाएंगे. “उनके ट्रांसलेटर बीजेपी सांसद प्रह्लाद जोशी ने इसे कन्नड़ में गलत ट्रांसलेट कर दिया. उन्होंने कहा कि, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गरीब, दलित और पिछड़ों के लिए कुछ भी नहीं करेंगे. वो देश को बर्बाद कर देंगे. आप उन्हें वोट दीजिये.”

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.