190 एकड़ खेतों की सिंचाई पर मंडरा रहा खतरा

रायपुर :  महानदी मुख्य नहर के कमांड एरिया में आने वाले ग्राम कठिया के लगभग 190 एकड़ खेतों को आगामी कृषि सत्र से खरीफ सिंचाई के लिए पानी न मिल पाने का खतरा मंडरा रहा है। ग्रामीणों के अनुसार इस खेतों की सिंचाई के लिए महानदी मुख्य नहर में लगाए गए डायरेक्ट आऊटलेट का तकनीकी खामियां हैं ।

क्या है इसका कारण : 

महानदी जलाशय परियोजना के जल प्रबंध संभाग क्रमांक एक के अधीनस्थ उप संभाग क्रमांक 4 के प्रशासनिक नियंत्रण और जल उपभोक्ता संस्था टेकारी के कार्यक्षेत्र में आता है। यह ग्राम और यह डी. ओ. ग्रामीणों के अनुसार महानदी मुख्य नहर के लाइनिंग के पूर्व आसानी से इस डी.ओ. से खेतों की सिंचाई हो जाती थी।

लाइनिंग के समय ग्रामीणों के आपत्ति के बावजूद भी इस डी ओ को अधिक ऊंचाई पर स्थापित कर दिया गया। ग्रामीणों का यह भी कहना है कि इस आऊटलेट के कुलापे भी एक सीध में न लग टेड़े-मेढ़े लगे है, जिसकी वजह से नहर में पूर्ण क्षमता से पानी चलने पर भी खेतों की ओर पानी नहीं निकलता। जल उपभोक्ता संस्था में इस ग्राम को प्रतिनिधित्व कर चुके सुखीराम वर्मा कहते है कि विभागीय अधिकारियों का ध्यान कई वर्षों से संस्था के माध्यम से इस ओर आकृष्ट कराया जाता रहा है पर सुधार कार्य नहीं हुआ।

बीते खरीफ सत्र तक टेकारी वितरक शाखा नहर और सोन भट्ठा माइसर के कमांड एरिया में आने वाले किसानों के सहयोग के चलते इन खेतों की सिंचाई होने की जानकारी देते हए ग्रामीण बतलाते हैं कि टेकारी शाखा के बाइनिंग हो जाने और सोनभट्ठा माइनर का इस साल प्रस्तावित लाइनिंग पूरा होने पर इनसे सिंचाई पानी नहीं मिल पाएगी । यदि इस डी.ओ. में सुधार कार्य नहीं किया गया तो खेत प्यासे रह जाएंगे ।

संस्था के पूर्व अध्यक्ष भूपेन्द्र शर्मा इन तथ्यो सहीं ठहराते हए कहते हैं कि पूर्व में लगातार विभागीय अधिकारियों का ध्यान इस ओर आकृष्ट किया जा चुका है। इस आउटलेट से पानी देने बुड़ेनी क्रास रेगुलेटर पर 10.10 फीट का गेज बनवाने काफी मशक्कत करनी पड़ती है । जो भी आगे पानी की मांग को देखते हुए ज्यादा दिन तक संभव नहीं हो पाता।

आगामी खरीफ सत्र में इन खेतों की सिंचाई में आने वाली दिक्कतों को देखते हुए इस आऊटलेट की तकनीकी खामियां दूर कराने जल संसाधन मंत्री बृजमोहन अग्रवाल सहति महानदी जलाशय परियोजना के मुख्य अभियंता एस. व्ही. भागवत, को ज्ञापन हाल ही में 12 दिसंबर को सौंपने की भी जानकारी उन्होंने दी।</>

advt
Back to top button