दैनिक खर्च से 20-20 रुपए बचाकर करता है बेटियों का विवाह, जाने पूरी ख़बर!

शादी के बाद बचे पैसों से शासकीय स्कूलों के बच्चों को बस्ता व पानी की बोटल आदि भी बांटते हैं।

सेवानिवृत्त वरिष्ठजन और व्यापारियों का एक ग्रुप हर साल दो गरीब कन्याओं का विवाह कराने का पुनीत कार्य कर रहा है। वे अब तक 22 बेटियों का विवाह करा चुके हैं।

शादी में नवदंपत्ति को उपहार देने से लेकर खाने-पीने आदि की सारी व्यवस्था के लिए किसी से दान नहीं लेता, बल्कि अपने दैनिक खर्च से 20-20 रुपए बचाकर बेटियों का विवाह कराने जोड़ते हैं।

इस समूह में कुल 17 सदस्य हैं। शादी के बाद बचे पैसों से शासकीय स्कूलों के बच्चों को बस्ता व पानी की बोटल आदि भी बांटते हैं।

डीडी नगर में रहने वाले डॉ.अरविन्द मित्तल व एलआईसी से रिटायर्ड जीडी गुप्ता बताते हैं कि उनके मित्र किराना व्यवसायी महेश खंडेलवाल ने 2008 में शुरुआत की थी। ग्रुप के सदस्य हर रोज 20-20 रुपए जोड़ते हैं, जिससे एक साल में 1 लाख 40 हजार जुड़ जाते हैं।

जीडी गुप्ता ने बताया दो बेटियों की शादी 23 दिसंबर को कराई जाएगी। शादी कार्ड छपवाए गए हैं। डीडी नगर बी- क्टर के आदर्श पार्क में टेंट लगाया जाएगा।

घराती व बराती सहित 100 लोगों को भोजन कराया जाएगा। वधु को शादी में अलमारी, कूलर, पलंग, सिलाई मशीन, टिफिन, 11 साड़ियां, नाक की लोंग, पायल, मोबाइल व 51 बर्तन दिए जाते हैं।

new jindal advt tree advt
Back to top button