मलेरिया से बचाव हेतु डी.डी.टी. का छिड़काव प्रारंभ

अम्बिकापुर: सरगुजा जिले में मलेरिया से बचाव के लिए डीडीटी का छिड़काव किया जा रहा है। कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर ने डी.डी.टी. छिड़काव में कर्तव्यस्थ सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों को गांवों में डी.डी.टी. का छिड़काव सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने अनुविभागीय राजस्व अधिकारियों, जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों एवं विकासखण्ड चिकित्सा अधिकारियों को समय-समय पर डी.डी.टी. छिड़काव का निरीक्षण करने के निर्देश दिए हैं। जिले के 6 सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों के 85 सेक्शनों के 271 ग्राम के अंतर्गत आने वाले 3 लाख 51 हजार 294 जनसंख्या को वेक्टर जनित रोग से संरक्षण देने के लिए डी.डी.टी. छिड़काव किया जा रहा है।

दिशा-निर्देश

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. पी.एस. सिसोदिया ने बताया है कि डी.डी.टी. छिड़काव का प्रथम चक्र 17 अप्रैल से प्रारंभ हो गया है। प्रत्येक सेक्टर सुपरवाइजर अपने सेक्टर में डी.डी.टी. छिड़काव दल के साथ पूरे सेक्टर के चयनित ग्रामों में छिड़काव पूरा होने तक रहेंगे। सेक्टर सुपरवाइजर छिड़काव दल की उपस्थिति एवं कार्य की गुणवत्ता के लिए उत्तरदायी होंगे। डी.डी.टी. की उपलब्धता एवं प्रतिदिन के खर्चे का हिसाब सुपीरियर फील्ड वर्कर के डायरी में अंकित करेंगे। सेक्टर में छिड़काव के समय संबंधित ग्राम का पुरूष स्वास्थ्य कार्यकर्ता अपने ग्राम में छिड़काव दल के साथ रहकर छिड़काव सम्पन्न करायेंगे।

सेक्टर सुपरवाइजर प्रत्येक ग्राम के सरपंच से उस ग्राम में छिड़काव होने का लिखित टीप सुपरवाइजर की डायरी में अंकित कराने हेतु जिम्मेदार होंगे। एक सेक्टर में छिड़काव खत्म होने के बाद दूसरे सेक्टर का सेक्टर सुपरवाइजर छिड़काव दल को अपने साथ लेगा यह प्रक्रिया निरंतर जारी रहेगी। प्रत्येक विकासखण्ड का बी.ई.ई. एवं मलेरिया निरीक्षक, मलेरिया टेक्निकल सुपरवाइजर अपने क्षेत्र के छिड़काव दलों का प्रति सप्ताह में एक बार आवश्यक रूप से निरीक्षण करेंगे तथा सुपरवाइजर की डायरी में डी.डी.टी. का खर्च मात्रा, बचत एवं कार्य की गुणवत्ता के संबंध में अपने अभिमत अंकित करेंगे।

प्रत्येक सेक्टर डॉक्टर उसके क्षेत्र में छिड़काव के समय प्रति सप्ताह छिड़काव दल की निगरानी करेंगे एवं अपना अभिमत डायरी में अंकित करेंगे। विकासखण्ड चिकित्सा अधिकारी माह में कम से कम 2 बार छिड़काव दलों का निरीक्षण करेंगे तथा उस ग्राम पंचायत एवं ग्रामों में जहां छिड़काव होना है एक दिन पूर्व उस ग्राम में चौकीदार के द्वारा सूचना पहुंचाने के लिए जिम्मेदार रहेंगे इसमे प्रत्येक पंचायत मे किस दिन छिड़काव दल पहुंचेगा की कार्य योजना सरपंच के पास भिजवाएंगे। कार्य योजना जिला मलेरिया कार्यालय से प्रदाय कर दिया गया है।

निरीक्षण अधिकारी अपने निरीक्षण के समय आवश्यक रूप से देखेंगे की छिड़काव नियमो के अनुरूप किया जा रहा है नियम के अंतर्गत छिड़काव बेड रूम से प्रारंभ कर बाहर की ओर किया जाएगा। किसी भी सूरत में पालतू पशुओं के शेड में छिडकाव नहीं किया जाना है। जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी प्रत्येक माह कम से कम एक बार आवश्यक रूप से छिड़काव दल का निरीक्षण करेंगे। सभी अनुविभागीय राजस्व अधिकारी अपने क्षेत्र के भ्रमण के समय उस क्षेत्र मे चल रहे छिड़काव दलों का निरीक्षण करेंगे एवं आवश्यक निर्देश देते रहेंगे। यदि कोई विशेष स्थिति निर्मित होती है तो उसकी सूचना मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय को देंगे।

Back to top button