राष्ट्रीय

ग्लेशियर टूटने की घटना में अबतक 32 लोगों का शव बरामद, 197 लोग अब भी लापता

जिंदगियों पर तबाही बनकर टूटे ग्लेशियर ने संपत्ति को भी खासा नुकसान पहुंचाया

चमोली:उत्तराखंड के चमोली जिले में ग्लेशियर टूटने के बाद अलकनंदा का जलस्तर बढ़ने के बाद राज्य में भारी तबाही का मंजर सामने आया था. इस हादसे में अबतक 32 लोगों के शव बरामद किए गए हैं और 197 लोग अब भी लापता हैं.

जिंदगियों पर तबाही बनकर टूटे ग्लेशियर ने संपत्ति को भी खासा नुकसान पहुंचाया है. चमोली में एनटीपीसी के 480MW तपोवन- विष्णुगढ़ हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट और 13.2 MW ऋषिगंगा प्रोजेक्ट को भी भारी नुकसान पहुंचा है. ग्लेशियर टूटने से आई बाढ़ में कई घर भी बह गए थे.

600 से ज्यादा सुरक्षाबल तैनात इस घटना के बाद 600 से अधिक सेना, आईटीबीपी, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ के जवान बचाव कार्य में जुटे हुए हैं. ये जवान बाढ़ से प्रभावित और संपर्क से बाहर हुए गांवों में खाना, दवाईयां और अन्य जरूरी चीजें पहुंचा रहे हैं.

राज्य के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने आईटीबीपी जवानों को ट्वीट कर धन्यवाद कहा था. तपोवन-विष्णुगढ़ प्रोजेक्ट की सुरंग में फंसे हैं 25-35 लोग भारतीय नौसेना के जवान भी बचाव कार्य में जुटे हुए हैं. ताजा जानकारी के मुताबिक एनटीपीसी के तपोवन-विष्णुगढ़ प्रोजेक्ट की 2.5 किलोमीटर लंबी सुरंग में 25-35 लोग फंसे हुए हैं.

इन लोगों को सुरंग से बाहर निकालने के लिए बचाव कार्य जारी है. सुरंग में जलस्तर लगातार बढ़ता जा रहा है. एक अधिकारी के मुताबिक स्पेशल मशीनों के जरिए सुरंग में फंसे लोगों से संपर्क साधने की कोशिश की जा रही है. अधिकारियों को उम्मीद है कि लोगों को सुरक्षित सुरंग से बाहर निकाला जाएगा. हालांकि सुरंग में फंसे लोगों से संपर्क साधा नहीं जा सका है.

मंगलवार को राज्यसभा में अमित शाह ने जवाब देते हुए कहा कि हमें सुरंग से मलबे को कितने समय में हटा लेंगे इसको लेकर अनुमान लगाना मुश्किल है. हालांकि प्रोजेक्ट इंजीनियर से मलबों को हटाने के लिए कोई अन्य उपाय तलाश के लिए कहा गया है.

हैंगिंग ग्लेशियर के टूटने से आया सैलाब देहरादून के Wadia Institute of Himalayan Geology (WIHG)की वैज्ञानिकों की दो टीमों का कहना है कि हैंगिंगल ग्लेशियर इस त्रासदी का कारण हो सकता है. मंगलवार को वैज्ञानिकों की दो टीमों ने प्रभावित इलाकों का एरियल सर्वे किया था.

WIHG के डायरेक्टर कलाचंद सैन का कहना है कि एक बड़े बर्फ के टुकड़े के पिघलकर टूटने के चलते यह घटना हुई. जयराम रमेश का ट्वीट इस घटना को लेकर पूर्व पर्यावरण मंत्री जयराम रमेश ने ट्वीट किया है.

उन्होंने कहा कि जब मैं पर्यावरण मंत्री था तो अलकनंदा भागीरथी और उत्तराखंड की अन्य नदियों पर हाइडल प्रोजेक्ट बनाने से रोक लगाने पर आलोचना का शिकार हुआ था. मैं अब इसे याद ही कर सकता हूं कोई मदद नहीं कर सकता. हमने इस प्रोजेक्ट के प्रभाव के बारे में नहीं सोचा था.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button