रेलवे ट्रैक पर 6 टुकड़ों में कटा हुआ मिला महिला कर्मचारी का शव

महिला कर्मचारी का अचानक लापता होना, पुलिस के लिए भी चुनौती बन गया

ग्वालियर:घर से अचानक लापता हुई ग्वालियर के पोस्ट ऑफिस में पदस्थ महिला कर्मचारी ऋतू कडेसिया का शव गुना के म्याना के पास रेलवे ट्रैक पर 6 टुकड़ों में कटी मिलने के बाद सनसनी मच हुआ मिला

ग्वालियर से लापता डाक विभाग की एक महिला कर्मचारी का शव गुना जिले के म्याना के पास रेलवे ट्रैक पर 6 टुकड़ों में कटा हुआ मिला है. शव की पहचान न होने की स्थिति में बॉडी को पोस्टमॉर्टम रूम के फ्रीजर में स्टोर किया गया था, जब परिजनों को शव के बारे में जानकारी लगी तो वे महिला के शव को अपने साथ ग्वालियर लेकर चले गए. कुछ समय बाद शव को दफना दिया गया है.

ग्वालियर के पोस्ट ऑफिस में पदस्थ महिला कर्मचारी ऋतू कडेसिया घर से अचानक लापता हो गई थी. ऋतू 10 जून को पति से मोबाइल पर बात करती हुई निकली तो फिर लौटकर वापिस नहीं आई.

महिला कर्मचारी का अचानक लापता होना, पुलिस के लिए भी चुनौती बन गया. इस मामले में ग्वालियर रेलवे पुलिस ने जो जानकारी उपलब्ध कराई उसके मुताबिक़ महिला ऋतू कडेसिया ग्वालियर से गुना की ओर जाने वाली ट्रेन में सवार हुई थी, जिसकी तस्वीरें CCTV फुटेज में भी कैद हुई हैं.

लेकिन अगले ही दिन महिला का शव गुना जिले के म्याना स्टेशन के पास रेलवे ट्रैक पर क्षत-विक्षत हालत में मिला है. जो इस पूरे मामले पर सवालिया निशान खड़े करने वाला था.

ये महिला पोस्ट ऑफिस की कर्मचारी थी जो 2 बच्चों की मां भी थी. महिला का पति योगेश डॉक्टर था जिन्होंने ग्वालियर से MBBS की थी और पीजी बिहार के पटना से कर रहे थे. परिवार में सब कुछ ठीक चल रहा था,10 जून को ऋतू घर से अपने मोबाइल पर अपने पति से बात करते हुई निकली. लेकिन कुछ देर बाद मोबाइल बंद हो गया और दोबारा चालू न हो सका.

परिजनों को जब ऋतू के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली तो उन्होंने ग्वालियर में महिला के गुमशुदा होने की रिपोर्ट दर्ज कराई. एक तरफ गुना जिले में शव मिलने के बाद रेलवे पुलिस पहचान में जुटी थी, दूसरी तरफ रेलवे पुलिस ने CCTV कैमरे के आधार पर यह पता कर लिया कि ऋतू कडेसिया ग्वालियर- गुना की तरफ गई है.

जिसके बाद रेलवे पुलिस ने सम्पर्क किया तो महिला की मौत की जानकारी मिली. महिला की मौत कैसे हुई किन हालातों में हुई, फिलहाल ये गुत्थी सुलझ नहीं पाई है, महिला ग्वालियर से गुना की तरफ क्यों पहुंची, ये भी बड़ा सवाल बना हुआ है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button