नन्द कुमार को मिली डीलिट की उपाधि

रायपुर:  राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष को शनिवार को डीलिट की उपाधि मिली। नंद कुमार साय को राज्यपाल ओपी कोहली ने उन्हें उपाधि दी। 

नन्द कुमार साय के मीडिया एडवाइजर भारत योगी ने कहा कि, 23 दिसम्बर को अवधेश प्रताप सिंह विश्व विद्यालय रींवा के स्वर्ण जयंती वर्ष के षष्ठम दीक्षांत समारोह में मध्यप्रदेश के राज्यपाल ओपी कोहली की गरिमामयी उपस्थिति में डीलिट की उपाधि से नवाजा गया। साय की ओर से समाज को दिए गए विभिन्न क्षेत्र में सेवा को ध्यान में रखते हुए उन्हें विस्व विद्यालय डीलिट की मानद उपाधि से नवाजा गया है। 

विदित हो कि, साय तीन बार लोक सभा के सदस्य, दो बार राज्य सभा सदस्य व तीन बार विधायक तथा अविभाजित मध्यपदेश भाजपा के अध्यक्ष, छग भाजपा के अध्यक्ष, छग विधान सभा मे नेता प्रतिपक्ष रहे हैं। साय 1970 ने शराब छोड़ो आंदोलन चलाया। इसी दौरान शराब छुड़वाने की खातिर 13 सितम्बर 1970 में नमक का त्याग कर दिया था।

उन्होंने नमक को हाथ भी नही लगाया है। समाज मे प्रतिज्ञा पुरुष और हत योगी के रुप में उनकी पहचान है। वही सरगुजा में संसद होते हुए उन्होंने नक्सलवाद के खिलाफ मुहिम चलाया था। समाजिक जागरण अभियान चलाकर उन्होंने झारखंड की सीमा से लगे सरगुजा में नक्सलवाद का अहिंसावादी तरीके से खत्मा कर दिया है। उनके इस उल्लेखनीय कार्यों के कारण उन्हें प्रदेश की सीमा से लगे झारखंड में भी एक अलग रुप में जाना जाता है। उन्होंने जशपुर में एक आदर्श गांव भी बनाया है।

advt
Back to top button