दूषित पानी से मौत: हाईकोर्ट ने तीन दिन में मांगा जवाब

छत्तीसगढ़ के विभिन्न शहरों में दूषित पानी पीने से मौतों के मामले में हाई कोर्ट बिलासपुर ने शासन से जवाब तलब किया है स्वास्थ्य सचिव व समाज कल्याण सचिव को नोटिस

बिलासपुर: छत्तीसगढ़ के विभिन्न शहरों में दूषित पानी पीने से मौतों के मामले में हाई कोर्ट बिलासपुर ने शासन से जवाब तलब किया है। रायपुर के पानी का हाई कोर्ट से नियुक्त न्यायमित्रों ने रिपोर्ट पेश की है। इस रिपोर्ट के बाद ही हाई कोर्ट ने जवाब तलब किया है। मामले में तीन दिन के भीतर स्वास्थ्य सचिव व समाज कल्याण सचिव छत्तीसगढ़ शासन को जवाब प्रस्तुत करने के आदेश दिए गए हैं।

न्यायमित्रों की कमेटी ने पेश की रिपोर्ट

न्यायमित्रों की कमेटी ने पानी की जांच के बाद सुझाव समेत रिपोर्ट हाई कोर्ट में पेश की थी। इसके बाद बीते बुधवार को हाई कोर्ट ने मामले में जवाब तलब किया। बता दें कि रायपुर और दुर्ग में दूषित पानी पीने के कारण कई गर्भवती महिलाओं की मौत हो गई थी। साथ ही कई लोग बीमार हालत में अस्पताल भर्ती हुए थे।

बबिता देवांगन की मौत के बाद पति ने दायर की थी याचिका

मृत गर्भवती महिलाओं में एक बबिता देवांगन के पति मुकेश देवांगन ने हाई कोर्ट में जनहित याचिका लगाई थी। हाई कोर्ट चीफ जस्टिस के डिवीजन बैंच में मामले की गम्भीरता को देखते हुए कोर्ट से न्यायमित्रों के 3 सदस्यीय टीम का गठन किया। टीम से प्रदेश में हो रहे दूषित पानी की जांच कर रिपोर्ट और सुझाव मांगे थे। न्यायमित्रों ने कोर्ट में रिपोर्ट प्रस्तुत कर दिया है और कोर्ट ने शासन से 3 दिनों के भीतर जवाब तलब किया है।

Back to top button