महादेव हास्पिटल में हुई तीसरे नवजात की मौत, जानें क्या है मामला

0-एनआईसीयू वार्ड में भर्ती 22 प्री मैच्योर बच्चों को शहर के जिला अस्पताल, शिशु भवन और महादेव हास्पिटल में भर्ती कराया गया था

बिलासपुर। सिम्स के एनआईसीयू वार्ड के सामने पिछले दिनों धुंआ भरने से वार्ड में भर्ती सभी 22 प्री मैच्योर बच्चों को शहर अलग-अलग हास्पिटल में भर्ती कराया गया था। जिसमें दो बच्चों की मौत पहले ही हो चुकी भी।

महादेव हास्पिटल में तीसरे बच्चें की मौत रविवार हो गई। मालूम हो कि 22 जनवरी को संभाग के सबसे बड़े हास्पिटल सिम्स के एनआईसीयू वार्ड के सामने वार्ड में शर्ट सर्किट से आग लग गई थी, जिससे पूरे परिसर में धुंआ भर गया था।

एनआईसीयू वार्ड में भर्ती 22 प्री मैच्योर बच्चों को शहर के जिला अस्पताल, शिशु भवन और महादेव हास्पिटल में भर्ती कराया गया था। जिसमें शिशु भवन में भर्ती दो बच्चों की दूसरे दिन ही मौत हो गई थी।

इसके चलते स्वास्थ्य मंत्री से लेकर मानवाधिकार के सचिव ने सिम्स प्रबंधन व डॉक्टरों को कड़ी फटकार लगाई थी साथ ही जांच टीम गठित करने का निर्देश दिया था। रविवार को इमलीपारा निवासी नंदकुमार पटेल के नवजात शिशु

बिलासपुर।

सिम्स के एनआईसीयू वार्ड के सामने पिछले दिनों धुंआ भरने से वार्ड में भर्ती सभी 22 प्री मैच्योर बच्चों को शहर अलग-अलग हास्पिटल में भर्ती कराया गया था। जिसमें दो बच्चों की मौत पहले ही हो चुकी भी।

महादेव हास्पिटल में तीसरे बच्चें की मौत रविवार हो गई। मालूम हो कि 22 जनवरी को संभाग के सबसे बड़े हास्पिटल सिम्स के एनआईसीयू वार्ड के सामने वार्ड में शर्ट सर्किट से आग लग गई थी, जिससे पूरे परिसर में धुंआ भर गया था।

एनआईसीयू वार्ड में भर्ती 22 प्री मैच्योर बच्चों को शहर के जिला अस्पताल, शिशु भवन और महादेव हास्पिटल में भर्ती कराया गया था। जिसमें शिशु भवन में भर्ती दो बच्चों की दूसरे दिन ही मौत हो गई थी।

इसके चलते स्वास्थ्य मंत्री से लेकर मानवाधिकार के सचिव ने सिम्स प्रबंधन व डॉक्टरों को कड़ी फटकार लगाई थी साथ ही जांच टीम गठित करने का निर्देश दिया था। रविवार को इमलीपारा निवासी नंदकुमार पटेल के नवजात शिशु का महादेव है।

1
Back to top button