गुजरात में घोषित हुई 7 दिसंबर की छुट्टी, राजस्थान के चुनाव का असर गुजरात तक

इतना ही नहीं भाजपा दक्षिण व पश्चिम भारत से लेकर गुजरात के विविध शहरों से राजस्थान के शहरों के लिए बस सेवा भी मुहैया करा रही है।

राजस्थान विधानसभा चुनाव पर पूरे देश की नजर है, बीते दो दशक से हर बार सत्ता परिवर्तन का ट्रेंड है लेकिन भाजपा इसको तोड़ने के लिए हर भरसक प्रयास कर रही है।

राजस्थान में हो रहे इस चुनाव का असर गुजरात तक नजर आ रहा है और आलम यह है कि इसके कारण गुजरात में 7 दिसंबर को छुट्टी की घोषणा की गई है।

दरअसल, राजस्थान में सत्ता का संघर्ष बड़ा है सत्ता में बने रहने के लिए भाजपा हर संभव कोशिश कर रही है। यही कारण है कि गुजरात सरकार ने 7 दिसंबर मतदान के दिन राज्य में प्रवासी राजस्थानियों के लिए अवकाश घोषित कर दिया है।

इतना ही नहीं भाजपा दक्षिण व पश्चिम भारत से लेकर गुजरात के विविध शहरों से राजस्थान के शहरों के लिए बस सेवा भी मुहैया करा रही है।

गुजरात सरकार के श्रम विभाग ने एक परिपत्र जारी कर बताया है कि राजस्थान में आगामी 7 दिसंबर को विधानसभा चुनाव होने से गुजरात में इस दिन अवकाश रहेगा, सरकारी व गैर सरकारी संस्थाओं में काम करने वाले श्रमिक व कर्मचारियों का अवकाश अगले अवकाश के साथ समायोजित कर लिया जाएगा।

मतदान के दिन भाजपा सरकार प्रवासी राजस्थानियों को जहां अवकाश दे रही है वहीं भाजपा दक्षिण भारत, पश्चिमी भारत के विविध राज्यों से लेकर महाराष्ट्र व गुजरात के कई शहरों से राजस्थान के शहरों तक बस सेवा भी उपलब्ध करा रही है।

भाजपा ने मुंबई के मलाड, भायंदर,वसई नालासोपारा, न्यूमुंबई, पूना, नासिक, विजयवाडा, कराड, रायपुर, सूरत, अहमदाबाद, वापी, नडियाद,वडोदरा, मोरबी, हिम्मतनगर, बैंगलोर, मैंगलोर उडुपी, चैन्नई,हुबली, विशाखापट्टनम, कोयम्बटूर इरोड सेलम, मदुरै, हैदराबाद, केरल, रायपुर, कराड, दिल्ली आदि शहरों से राजस्थान के मेवाड व मारवाड के लिए बस सेवा उपलब्ध करा रही है।

भाजपा राजस्थान, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ के राज्यों को आगामी लोकसभा चुनाव से पहले का सेमीफाइनल मान रही है इसीलिए इन चुनावों में पूरी ताकत झौंक रही है।

भाजपा ने मेवाड व मारवाड की सीटों पर गुजरात के दो दो भाजपा विधायक व कुछ कार्यकर्ताओं को भी प्रचार की जिम्मेदारी सौंपी है।

मराठाओं को आरक्षण के ऐलान के साथ ही गुजरात का पाटीदार समाज भी सक्रिय हो गया है। हार्दिक पटेल के बाद एक ओर पाटीदार नेता लालजी पटेल ने 15 दिसंबर को स्टेच्यू ऑफ युनिटी पर श्रद्वांजलि अर्पण कर आंदोलन का आगाज करेंगे। अगले दिन वे अपने कार्यकर्ताओं के साथ साबरमती रिवरफ्रंट से गांधीनगर तक कूच करेंगे।

सरदार पटेल ग्रुप के अध्यक्ष लालजी पटेल ने कहा है कि जब मराठा को आरक्षण मिल सकता है तो पाटीदारों को आरक्षण के नाम पर क्यों गुमराह किया जा रहा है।

इससे पहले पाटीदार आरक्षण आंदोलन समिति के संयोजक हार्दिक पटेल ने भी मराठाओं के पैटर्न पर ही गुजरात में पाटीदारों को आरक्षण की मांग की है।

हार्दिक आंदोलन से पहले लालजी पटेल के एसपीजी ग्रुप के ही जिला संयोजक थे, बाद में उन्होंने अपना पाटीदार आंदोलन समिति का गठन कर आरक्षण की मांग शुरु कर दी थी।

 

Back to top button