राफेल मामले में पुनर्विचार याचिकाओं पर फैसला आज : सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट में बुधवार को यह तो हो जाएगा कि राफेल विमान सौदे में आगे सुनवाई होगी या नहीं। सर्वोच्च अदालत इस मामले में पुनर्विचार याचिकाओं पर बुधवार को फैसला सुनाएगी। अदालत ने साफ किया है कि सबसे पहले वह केंद्र सरकार की प्रारंभिक आपत्तियों पर फैसला सुनाएगी।

प्रधान न्यायाधीश जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ फैसला सुनाएगी। सुप्रीम कोर्ट ने मार्च में पुनर्विचार याचिकाओं पर केंद्र सरकार की प्रारंभिक आपत्तियों पर सुनवाई पूरी कर फैसला सुरक्षित रख लिया था। अदालत ने कहा है कि इस मामले में केंद्र की प्रारंभिक आपत्ति पर फैसला लेने के बाद ही आगे के तथ्यों पर विचार किया जाएगा।

केंद्र ने अदालत में कहा कि पुनर्विचार याचिका दायर करने वाले याचिकाकर्ता गैरकानूनी तरीके से प्राप्त किए गए विशेषाधिकार वाले दस्तावेजों को आधार नहीं बना सकते। केंद्र की तरफ से पेश हुए अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कहा था कि बिना संबंधित विभाग की अनुमति के कोई भी इन दस्तावेजों अदालत में पेश नहीं कर सकता।

जस्टिस गोगोई , जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस केएम जोसेफ की पीठ के समक्ष केन्द्र की ओर से अटार्नी जनरल के के वेणुगोपाल ने अपने दावे के समर्थन में साक्ष्य कानून की धारा 123 और सूचना के अधिकार कानून के प्रावधानों का हवाला दिया था।

वहीं, अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने कहा था कि उन लोगों ने जो दस्तावेज दाखिल किए हैं या जिन्हें आधार बनाया है, उनका राष्ट्रीय सुरक्षा से कोई लेना-देना नहीं है। पीठ राफेल विमान सौदे के मामले में अपने फैसले पर पुनर्विचार के लिये दायर याचिकाओं पर सुनवाई कर रही है। ये पुनर्विचार याचिकाएं पूर्व केंद्रीय मंत्रियों यशवंत सिन्हा और अरूण शौरी तथा अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने दायर कर रखी हैं। पिछले साल 14 दिसंबर को सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में राफेल जेट सौदा मामले में दाखिल सभी याचिकाओं को खारिज कर दिया था।

Back to top button