बॉलीवुडमनोरंजन

दीपिका का सिर काटने वाले को 10 करोड़ देने का ऐलान, बीजेपी में फिर हुई वापसी

दीपिका का सिर काटने के लिए 10 करोड़ का ईनाम रखने वाले सूरज पाल अमू की बीजेपी में फिर वापसी हो गई है।

2017 में फिल्म पद्मावत के लेकर चले विरोध प्रदर्शन के दौरान अमू के विवादित बयान को लेकर प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष सुभाष बराला ने अमू को कारण बताओ नोटिस जारी किया था, जिसके बाद उन्होंने इस्तीफा दे दिया था। विरोध प्रदर्शन के दौरान अमू ने अदाकारा दीपिका पादुकोण और फिल्म के निर्देशक संजय लीला भंसाली का सिर काटने के लिए 10 करोड़ रुपये ईनाम की घोषणा की थी।

फिल्म पद्मावत की रिलीज से पहले चले विवाद के दौरान जिस नेता ने अभिनेत्री दीपिका पादुकोण का सिर काटने के लिए 10 करोड़ रुपये का ईनाम रखा था, बीजेपी में उसकी फिर से वापसी हो गई है।

हरियाणा बीजेपी ने करणी सेना के नेता सूरजपाल अमू का इस्तीफा नामंजूर कर दिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हरियाणा के बीजेपी अध्यक्ष सुभाष बराला ने सोमवार (8 अक्टूबर) को अमू का इस्तीफा नामंजूर कर दिया। अमू ने इस पर खुशी जताई और कहा कि यह उनके लिए घर वापासी जैसा है।

अमू ने नंबर 2017 में हरियाणा बीजेपी के मुख्य मीडिया समन्वयक के पद से इस्तीफा दिया था। अमू ने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा, मैंने भारतीय जनता पार्टी की हरियाणा इकाई के कई भिन्न पदों से कई महीनों पूर्व इस्तीफा दे दिया था और आज हरियाणा के बीजेपी अध्यक्ष सुभाष बराला ने इसे नामंजूर कर दिया। अमू ने आगे कहा,पिछले 29-30 वर्षों से मैं पार्टी के अलग-अलग पदों और इसकी छात्र शाखा के लिए काम करता आ रहा हूं। पार्टी से दूर रहने के ये आठ महीने मेरे लिए बहुत मुश्किल थे, हालांकि मैं अलग-अलग सामाजिक संगठनों में काम करता रहा। यह मेरे लिए घर आने जैसा है।

बता दें कि 2017 में फिल्म पद्मावत के लेकर चले विरोध प्रदर्शन के दौरान अमू के विवादित बयान को लेकर प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष सुभाष बराला ने अमू को कारण बताओ नोटिस जारी किया था, जिसके बाद उन्होंने इस्तीफा दे दिया था। विरोध प्रदर्शन के दौरान अमू ने अदाकारा दीपिका पादुकोण और फिल्म के निर्देशक संजय लीला भंसाली का सिर काटने के लिए 10 करोड़ रुपये ईनाम की घोषणा की थी।

बता दें कि करणी सेना के द्वारा फिल्म पद्मावत के विरोध के दौरान सूरज पाल अमू ने एक के बाद एक कई विवादित बयान दिए थे, जिनकी वजह से वह मीडिया की सुर्खियों में आ गए थे। विवाद के चलते उन्होंने समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान के द्वारा जोधा बाई को लेकर दिए गए बयान पर उन्हें नपुंसक तक कह दिया था।

पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा फिल्म के प्रीमियर को हरी झंडी दिए जाने पर अमू ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को लेकर इशारों-इशारों में कहा था कि राक्षसी प्रवृत्ति की महिलाओं का इलाज किया जाना चाहिए। इसके लिए उन्होंने रामायण के शूर्पणनखा वाले प्रकरण का उदाहरण दिया था। एक टीबी डिबेट में अमू ने महिला एंकर बेबी कह दिया था जिसके बाद उनकी खूब आलोचना हुई थी।

 <>

Summary
Review Date
Reviewed Item
दीपिका का सिर काटने वाले को 10 करोड़ देने का ऐलान, बीजेपी में फिर हुई वापसी
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags