छत्तीसगढ़

रायपुर आईजी के दौड़ में सबसे आगे दीपांशु काबरा

चर्चा है कि महीने में आखिरी प्रशासनिक सर्जरी की जाएगी।

रायपुर । रायपुर में एसएसपी रहे बिलासपुर आईजी दीपांशु काबरा को रायपुर लाने की कवायद तेज हो गई है। पुलिस मुख्यालय में इसे लेकर चर्चा है।

दरअसल विधानसभा का मानसून सत्र समाप्त होने के बाद सरकार की ओर से आखिरी प्रशासनिक सर्जरी की कवायद शुरू की गई है।

इसी क्रम में कुछ रेंज के आईजी और जिले के पुलिस कप्तानों को इधर से उधर करने की तैयारी है। चर्चा है कि महीने में आखिरी प्रशासनिक सर्जरी की जाएगी।

पुलिस मुख्यालय के सूत्रों ने बताया कि विधानसभा चुनाव की अधिसूचना अक्टूबर के प्रथम सप्ताह में जारी होना तय है। ऐसे में चुनाव आयोग एक ही रेंज व जिले में पदस्थ आईजी और एसपी को हटाने की कवायद करेगा। इसे ध्यान में रखकर सरकार ने पहले से ही तैयारी कर रखी है। इसकी शुरुआत प्रदेश की राजधानी रायपुर और बिलासपुर से की जाएगी।

चुनाव आयोग के नियमों के अनुसार विस चुनाव के दौरान गृह जिले के अफसर को उसी जिले में तैनात नहीं रखा जा सकता है, ऐसे में रायपुर रेंज के आईजी प्रदीप गुप्ता का हटना तय माना जा रहा है क्योंकि वे रायपुर के मूल निवासी हैं।

उन्हें रायपुर से हटाकर सरगुजा या बिलासपुर की कमान सौंपी जा सकती है। उनके स्थान पर बिलासपुर आईजी दीपांशु काबरा को रायपुर आईजी बनाया जाना करीब-करीब तय कर लिया गया है।

सूत्रों की मानें तो रायपुर आईजी के तौर पर दीपांशु काबरा की पदस्थापना को लेकर सरकार के साथ मुख्यालय के अफसर भी एकमत हैं। इसके पीछे वजह यह भी है कि वे रायपुर की नब्ज को अच्छी तरह जानते हैं।

छह साल पहले रायपुर में एसएसपी रह चुके काबरा के कार्यकाल को आज भी लोग याद करते हैं।

अफसरों से लेकर मंत्री, नेताओं, पक्ष-विपक्ष के जनप्रतिनिधि तक उन्हें सभी को एक साथ लेकर चलने और सुनने वाला कड़क मिजाज अफसर बताते हैं। लिहाजा पुलिस मुख्यालय ने भी काबरा को रायपुर आईजी बनाने के संकेत दिए हैं।

इससे पहले भी जब वे एसआइबी में डीआईजी फिर आईजी पदोन्नात हुए थे तब उन्हें रायपुर लाने की चर्चा चली थी, लेकिन किसी कारणवश सहमति नहीं बन पाई थी।

Summary
Review Date
Reviewed Item
रायपुर आईजी के दौड़ में सबसे आगे दीपांशु काबरा
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.