सुरक्षा चुनौतियों को लेकर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण आज करेंगे अहम बैठक

भारत के पड़ोस से जुड़े भू-रणनीतिक मुद्दों पर भी चर्चा संभव

नई दिल्ली: जम्मू कश्मीर के पुलवामा में हुए जैश ए मोहम्मद के आतंकी हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान की कड़ी आलोचना की। जिसके बाद भारत ने पाकिस्तान का हुक्का पानी भी बंद करवा दिया। पाकिस्तान को मिला एमएफ़एन का दर्जा भी छिन लिया गया।

अब इसी मुद्दे को लेकर उपजीं सुरक्षा चुनौतियों को लेकर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और तीनों सेनाओं के प्रमुख आज 42 देशों में तैनात भारत के ‘डिफेंस अताशे’ के साथ अहम बैठक करेंगे। आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि डिफेंस अटैची विदेश में भारतीय दूतावास से जुड़े वे अधिकारी होते हैं, जो रक्षा से जुड़े मामलों को देखते हैं। ये सिर्फ उन्हीं देशों में होते हैं जिनसे हमारे सैन्य रिश्ते हैं।

यह दो दिवसीय बैठक ऐसे समय हो रही है जब पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के आत्मघाती हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव लगातार बढ़ रहा है। इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हुए थे। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि सुरक्षा बलों को इस हमले का जवाब देने के लिए खुली छूट दे दी गई है।

एक सैन्य अधिकारी ने बताया, बैठक में पाकिस्तान सीमा पर हालात समेत तमाम मुद्दों पर चर्चा होगी। इसके अलावा, सरकार कुछ अहम सुरक्षा चुनौतियों को लेकर डिफेंस अटैची से प्रतिक्रिया लेगी। सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तान और अफगानिस्तान में तैनात भारत के डिफेंस अटैची भी इस बैठक में शिरकत करेंगे। बैठक में भारत-चीन सीमा की स्थिति के साथ-साथ भारत के पड़ोस से जुड़े भू-रणनीतिक मुद्दों पर भी चर्चा संभव है।

Back to top button