राष्ट्रीय

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने एलएसी पर भारत की समग्र सैन्य तैयारियों की समीक्षा की

मेजर जनरल स्तर के एक और दौर की वार्ता हुई

नई दिल्ली: भारत और चीन के सैनिकों के बीच सीमा पर गतिरोध सुलझाने के लिए मेजर जनरल स्तर के एक और दौर की वार्ता हुई है। इससे पहले पूर्वी लद्दाख और कई अन्य क्षेत्रों सिक्किम, उत्तराखंड और अरुणाचल प्रदेश में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भारत की समग्र सैन्य तैयारियों की समीक्षा की।

बैठक में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत, नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह और वायु सेनाध्यक्ष एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया भी शामिल थे। पैंगोंग त्सो, गलवन घाटी, दमचोक और दौलत बेग ओल्डी में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच पांच सप्ताह से अधिक समय से गतिरोध जारी है।

दोनों पक्षों ने गतिरोध के बाद उत्तरी सिक्किम, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और अरुणाचल प्रदेश में एलएसी के साथ अतिरिक्त सैनिकों को तैनात किया है। यह समझा जाता है कि राजनाथ ने शीर्ष सैन्य अधिकारियों को पूर्वी लद्दाख और अन्य क्षेत्रों में स्थिति से दृढ़ता से निपटने के लिए कहा।

नाम नहीं छापने की शर्त पर एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, रक्षा मंत्री ने पूर्वी लद्दाख में स्थिति की व्यापक समीक्षा की। सैन्य सूत्रों ने कहा कि दोनों सेनाओं के बीच शुक्रवार को मेजर जनरल स्तर की एक और दौर की वार्ता हुई, ताकि पूर्वी लद्दाख में तनाव को दूर करने के लिए रास्ता खोजा जा सके। भारत ने गुरुवार को कहा था कि वह चीन के साथ जल्द से जल्द शांति से हल निकालने के लिए सैन्य और कूटनीतिक संपर्क बनाए हुए है।

Tags
Back to top button