दिल्लीराज्य

पटाखों की बिक्री पर बैन, फिर भी दिल्ली को प्रदूषण से नहीं मिला चैन

दिल्ली समेत पूरे NCR में पटाखों की बिक्री पर बैन है, लेकिन दिवाली से महज एक दिन पहले सामने आए प्रदूषण के आंकड़े चौंकाने वाले हैं. दिल्ली प्रदूषण कंट्रोल कमेटी ने 10 स्टेशनों पर एयर क्वालिटी मापने की व्यवस्था की है.

इनसे जो आंकड़े निकलकर सामने आए हैं, वो यह बताने के लिए काफी हैं कि कैसे दिल्ली में दिवाली से पहले ही वायु प्रदूषण ने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं.

अगर हम इन आंकड़ों पर नजर दौड़ाएं, तो चौंकाने वाला पहलू यह है कि दिल्ली के तमाम अलग-अलग इलाकों में वायु प्रदूषण का स्तर सामान्य से नौ गुना तक ज्यादा हो गया है.

दिल्ली प्रदूषण कंट्रोल कमेटी यानी डीपीसीसी जिन 10 केंद्रों के आंकड़े जुटा रही है, उनमें दिल्ली के श्रीनिवासपुरी, वजीरपुर, करणी सिंह स्टेडियम, ध्यानचंद हॉकी स्टेडियम, जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम, ITI जहांगीरपुरी, आनंद विहार बस अड्डा, मंदिर मार्ग, पंजाबी बाग और आरके पुरम शामिल हैं.

वजीरपुर की हवा सबसे ज्यादा प्रदूषित

एयर क्वालिटी की मॉनिटरिंग के जरिए दिल्ली के हर हिस्से के वायु प्रदूषण के डाटा को जुटाया जा रहा है. दिवाली से सिर्फ एक दिन पहले यानी छोटी दीपावली के दिन वायु प्रदूषण के आंकड़ों पर गौर करें, तो सबसे ज्यादा प्रदूषित इलाका उत्तरी दिल्ली का वजीरपुर है.

जहां वायु प्रदूषण का स्तर सामान्य से नौ गुना तक ज्यादा पहुंच गया है. वायु प्रदूषण के मानक PM 10 के हिसाब से मापे जाते हैं.

आनंद विहार बस अड्डे का इलाका दूसरे स्थान पर

वायु प्रदूषण के मामले में आनंद विहार बस अड्डा भी पीछे नहीं है. यहां भी वायु प्रदूषण का स्तर सामान्य से लगभग नौ गुना ज्यादा है यानी वजीरपुर से थोड़ा ही कम.

इसके बाद फरीदाबाद बॉर्डर के कर्णी सिंह शूटिंग रेंज का नंबर आता है. आनंद विहार के बाद यह दिल्ली का तीसरा सबसे ज्यादा प्रदूषित इलाका है.

दिल्ली के पॉश इलाकों में भी हालत बदतर

दिल्ली के बीचो-बीच यानी पॉश इलाकों में शुमार पंजाबी बाग, आरके पुरम और यहां तक कि इंडिया गेट का इलाका भी वायु प्रदूषण में किसी मामले में पीछे नहीं है.

इन इलाकों में भी वायु प्रदूषण का स्तर सामान्य से लगभग सात गुना तक ज्यादा है.

PM 2.5 का स्तर भी खतरनाक स्तर पर

अब बात पीएम 2.5 की….दिवाली से एक दिन पहले इस सबसे खतरनाक माने जाने वाले पार्टिकुलेट मैटर (PM 2.5) भी लगभग नौ गुना तक ज्यादा रिकॉर्ड दर्ज किए गए हैं.

यह PM 10 की तुलना में छोटा होता है, लेकिन घातक ज्यादा होता है. यह ज्यादा खतरनाक इसलिए है, क्योंकि यह हमारी धमनियों के सबसे महीन सिरे तक पहुंचाता है.

PM 2.5 के मामले में इंडिया गेट का इलाका दूसरे स्थान पर

PM 2.5 के मामले में वजीरपुर के बाद दूसरे नंबर पर इंडिया गेट से साथ लगा इलाका है यानी ध्यानचंद हॉकी स्टेडियम, जहां लोगों की आवाजाही काफी ज्यादा रहती है.

PM 2.5 के मामले में दक्षिणी दिल्ली का सबसे पॉश इलाका माने जाने वाला आरकेपुरम तीसरे नंबर पर है. पश्चिमी दिल्ली का पंजाबी बाग इलाका और उत्तरी दिल्ली का जहांगीरपुरी इलाका भी पीएम 2.5 के मामले में पीछे नहीं हैं.

अब चिंता की बात यह है कि पटाखों की बिक्री पर बैन तो लगा दिया गया, लेकिन इन सबके बावजूद अभी तक वायु प्रदूषण पर नियंत्रण नहीं पाया जा सका है.

अब देखना यह है कि इस बार दिवाली के दिन वायु प्रदूषण में कमी होती है या फिर पिछले साल की तरह इसके स्तर में इजाफा होगा.

Summary
Review Date
Reviewed Item
दिल्ली को प्रदूषण
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.