दिल्ली चुनाव : कैलाश विजयवर्गीय ने Exit Poll को नकारा

नई दिल्‍ली: दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 को लेकर सामने आए एग्जिट पोल में एक बार फिर अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी को बहुमत मिलने के संकेत मिले हैं. दिल्ली के एग्जिट पोल को लेकर भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि सामान्य तौर पर के आसपास ही नतीजे सामने आते हैं, लेकिन कभी-कभी एग्जिट पोल के विपरीत नतीजे भी देखने को मिलते हैं.

कैलाश विजयवर्गीय के अलावा दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने एग्जिट पोल को फेल बताते हुए कहा था कि दिल्ली में बीजेपी को 48 सीटें मिलेंगी. उन्होंने कहा कि बीजेपी दिल्ली में 48 सीट लेकर सरकार बनाएगी,कृपया ईवीएम को दोष देने का अभी से बहाना ना ढूंढें. बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने पश्चिम बंगाल को लेकर कहा कि बंगाल में सरकार अराजक हो गई है.

पश्चिम बंगाल सरकार का लोकतंत्र में कोई विश्वास नहीं बचा है. नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के समर्थन में रैली निकालने पर गिरफ्तारी हो जाती है.

वहीं, दिल्ली विधानसभा चुनाव खत्म होते ही आम आदमी पार्टी ने चुनाव आयोग पर सवाल उठाए हैं. उनका कहना है कि वोटिंग के 24 घंटे गुजर जाने के बाद भी चुनाव आयोग ने अबतक वोट प्रतिशत क्यों जारी नहीं किया?. शनिवार देर रात ईवीएम की सुरक्षा को लेकर अरविंद केजरीवाल के घर पर बैठक हुई. इस मीटिंग में निर्णय हुआ कि आप आदमी पार्टी के कार्यकर्ता और विधायक पोलिंग बूथ पर नजर रखेंगे, ताकि ईवीएम से कोई छेड़छाड़ न हो सके.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने चुनाव आयोग के कार्य सवाल उठाते हुए कहा कि बिल्कुल चौंकाने वाला है कि आखिर चुनाव आयोग क्या कर रहा है?. मतदान के कई घंटे बाद भी वे मतदान के आंकड़े जारी क्यों नहीं कर रहे हैं?. वहीं. राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने प्रेस कॉन्फेंस कर कहा कि चुनाव आयोग ने दिल्ली चुनाव में आधिकारिक मतदान प्रतिशत घोषित नहीं किया है. क्या साजिश रच रहा है? क्या एजेंडा है? EC को जवाब देना होगा.

AAP नेता संजय सिंह ने कहा कि कल दिल्ली के चुनाव संपन्न हुए, 70 साल के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ होगा कि चुनाव आयोग ये बताने को तैयार नहीं कि कितने प्रतिशत मतदान हुआ. इसका मतलब कहीं कुछ दाल में काला है, कोई खेल चल रहा है अंदर ही अंदर.

बता दें कि शनिवार को ईवीएम की सुरक्षा को लेकर अरविंद केजरीवाल के आवास पर बैठक हुई थी. इस बैठक के बाद राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने EVM की सुरक्षा को लेकर प्रश्न खड़े किए हैं. उन्होंने कहा कि ईवीएम सील होने के बाद सीधे स्ट्रांग रूम में ले जाना चाहिए, लेकिन अभी भी कुछ अधिकारियों के पास ईवीएम है. यह बाबरपुर की घटना है. इसी तरह की घटना विश्वास नगर में भी बताई जा रही है.

अरविंद केजरीवाल के साथ बैठक के बाद आप नेता संजय सिंह ने कहा था कि ईवीएम की सुरक्षा को लेकर आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता और विधायक स्टांग रूम पर निगरानी रखेंगे, ताकि कोई भी ईवीएम से छेड़छाड़ न कर सके. वहीं, इससे पहले राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने एक वीडिया ट्वीट कर पूछा कि चुनाव आयोग इस घटना का संज्ञान ले कि ये किस जगह EVM उतारी जा रही हैं. आसपास तो कोई सेंटर है नहीं.

Tags
Back to top button