दिल्ली

फरीदाबाद में गौरक्षकों की गुंडागर्दी, बीफ के शक में ऑटो ड्राइवर सहित 5 को पीटा

गौरक्षा के नाम पर कथित गौरक्षकों की गुंडागर्दी थमने का नाम नहीं ले रही है. इस बार मामला दिल्ली से सटे फरीदाबाद का है, जहां एक ऑटो में गौमांस होने के शक पर कथित गौरक्षकों ने एक ऑटो ड्राइवर और उसके साथी को जमकर पीटा. इतना ही नहीं आरोपियों ने ऑटो चालक को भारत माता और हनुमान की जय बोलने के लिए कहा और न बोलने पर उसे पीट-पीट कर लहूलुहान कर दिया.

पीड़ितों के खिलाफ ही मामला दर्ज
आरोप है कि इसी दौरान ऑटो चालक के अन्य तीन साथियों को भी पीटा गया. फिलहाल पुलिस ने पांचों पीड़ितों के खिलाफ ही गौरक्षा अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर लिया है. पुलिस की प्राथमिकता पहले यह पता लगाने की है कि गाड़ी में गौ मांस था या नहीं. साथ ही पुलिस पीड़ितों की शिकायत का इंतजार कर रही है.

तीन और दोस्तों को पीटा
दरअसल पूरा मामला फरीदाबाद के बाजड़ी गाँव का है जहाँ कथित गौरक्षकों ने ऑटो चालक और उसके साथी को पहले जमकर पीटा और फिर उसे बचाने आये तीन युवकों को भी पीटा. पीड़ित की माने तो उसके साथी की मीट की दुकान है और उसी के लिए वह गाड़ी में मीट रखकर ले जा रहा था.

पुलिस के सामने पिटाई का आरोप
पीड़ित के मुताबिक इस दौरान उसका एक और साथी ऑटो में बैठा था, लेकिन जैसे ही वह फरीदाबाद के बाजड़ी गाँव के नजदीक पहुंचे, तभी पीछे से आई एक कार में सवार कुछ युवकों ने उसके ऑटो को रुकवा लिया और पूछताछ करने लगे. जब पीड़ित ने कहा कि वो किसी लड़के को नहीं जानता, तो आरोपियों ने उससे मारपीट शुरू कर दी. पीड़ित का आरोप है कि पुलिसकर्मियों के सामने भी कथित गौ रक्षकों ने उन्हें पीटा.

‘गौ मांस निकले तो फांसी दे देना’
पीड़ित का कहना है कि गाड़ी में गौ मांस नहीं था, उसमें गाय का मीट निकला तो मुझे फांसी दे देना और अगर नहीं तो मुझे इन्साफ चाहिए.

पुलिस की प्राथमिकता- गाड़ी में गौ मांस था या नहीं
पुलिस ने इस मामले में पीड़ितों के खिलाफ ही गौ रक्षा संरक्षण अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर लिया है. पुलिस के मुताबिक शिकायत मिलने पर मामला दर्ज कर लिया है, अब जांच के बाद ही तय हो पाएगा कि गाड़ी में गौ मांस था या नहीं.

डीसीपी आस्था मोदी ने मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि इस मामले में गौ तस्करी का मामला दर्ज किया गया है. साथ ही मारपीट करने वालों के खिलाफ भी मामला दर्ज किया जा रहा है.

Summary
Review Date
Reviewed Item
गौरक्षकों
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *