दिल्ली सरकार ने नर्सिंग कर्मियों को मलयालम भाषा का इस्तेमाल नहीं करने को कहा

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी इसको भाषायी भेदभाव करार दिया

नई दिल्ली:दिल्ली के प्रमुख अस्पतालों में से एक गोविंद बल्लभ पंत इंस्टीट्यूट ऑफ पोस्टग्रेजुएट मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (जीआईपीएमईआर) द्वारा सर्कुलर जारी किया गया। जारी सर्कुलर में नर्सों से कहा गया है कि वे संवाद के लिए केवल हिंदी और अंग्रेजी का उपयोग करें या ‘कड़ी कार्रवाई का सामना करने के लिए तैयार रहें।

अस्पताल ने इसके पीछे कारण दिया है कि अधिकतर मरीज और सहकर्मी इस भाषा को नहीं जानते हैं जिसके कारण बहुत असुविधा होती है। इस आदेश को लेकर अब राजनीति शुरू हो गई है और कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी इसको भाषायी भेदभाव करार दिया है।

जीबी पंत नर्सेज एसोसिएशन अध्यक्ष लीलाधर रामचंदानी ने दावा किया कि यह एक मरीज द्वारा स्वास्थ्य विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी को अस्पताल में मलयालम भाषा के इस्तेमाल के संबंध में भेजी गई शिकायत के अनुसरण में जारी किया गया है। उन्होंने हालांकि कहा कि ”एसोसिएशन परिपत्र में इस्तेमाल किए गए शब्दों से असहमत है।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने अस्पताल के आदेश से जुड़ी एक अखबार मे छपी खबर की क्लिपिंग को शेयर करते हुए रविवार को ट्वीट किया, ‘मलयालम भी उतनी ही भारतीय है जितनी की कोई और भारतीय भाषा। भाषायी भेदभाव बंद करें।’

कांग्रेस नेता शशि थरूर ने भी इस सर्कुलर का विरोध किया है। उन्होंने इसे भारतीय नागरिकों के बुनियादी मानवाधिकारों का हनन बताया है।

थरूर ने ट्वीट किया, ‘यह सोचकर भी दिमाग ठिठक जाता है कि लोकतांत्रिक भारत में एक सरकारी संस्थान अपने नर्सों को उनकी मातृभाषा में बात करने से मना कर सकता है। यह अस्वीकार्य है और भारतीय नागरिकों के बुनियादी मानवाधिकारों का हनन है।’

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button