दिल्ली हाईकोर्ट: चांदनी चौक की स्थिति ‘टाइम बम’ जैसी

दिल्ली हाईकोर्ट: चांदनी चौक की स्थिति ‘टाइम बम’ जैसी

दिल्ली हाईकोर्ट ने आज कहा कि चांदनी चौक इलाके में बेतरतीब झूलते बिजली के तारों की वजह से चांदनी चौक की स्थिति टाइम बम जैसी हो गई है और इससे लोगों की जिंदगी को खतरा है. अदालत ने कहा कि किसी आपात स्थिति में उस इलाके तक दमकल की गाड़ियां या एंबुलेंस नहीं जा सकतीं.

न्यायमूर्ति जी एस सिस्तानी और न्यायमूर्ति वी कामेश्वर राव की पीठ ने दिल्ली पुलिस और दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) को इलाके के चांदनी चौक क्षेत्र में अतिक्रमण रोकने के आदेश की तामील का निर्देश देते हुए यह टिप्पणी की.

उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद है कि पूर्व के आदेश को यथावत लागू किया जाएगा. न्याय पीठ ने कहा कि ये सब टाइम बम है. आप देख नहीं सकते और खुला आसमान को तो देखा भी नहीं जा सकता. हर जगह लटकता हुआ तार है. हर दुकान पर कई तार झूलते रहते हैं.

हम विरासत की बात करते हैं लेकिन जमीनी स्तर पर देखने के लिए तैयार नहीं है. यह सुझाव देते हुए कि प्रशासन और हॉकरों को कुछ अलग सोचना और नियमन करना चाहिए. पीठ ने कहा कि पिछले 50 साल या उससे पहले जो भी चांदनी चौक गया उसे पता होगा वह इलाका तब से वैसा ही है. उन्होंने कहा कि केवल वहां गाड़ियां बढ़ी हैं. हॉकर हमेशा वहां थे.

advt
Back to top button