कचरे के ढेर से मिली 25 दिन की नजवात बच्‍ची की मौत, आरोपी मां ने कहा-गुस्से और निराशा के कारण उठाया यह कदम

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि जीटीबी अस्पताल में बच्ची की मौत के बाद आरोपी नेहा को गिरफ्तार कर लिया गया. वह पूर्वी दिल्ली की रहने वाली है. उन्होंने कहा, ‘‘महिला ने स्वीकार किया कि उसने गुस्से और निराशा के कारण उसे कचरे के ढेर में फेंक दिया.’’

नई दिल्ली : पूर्वी दिल्ली में एक मां द्वारा 25 दिन की अपनी बेटी को कचरे के ढेर में फेंके जाने का मामला सामने आया है. बताया जा रहा है कि बच्‍ची की मां ने शुक्रवार शाम को बच्‍ची को कचरे के ढेर में फेंक दिया था.

इससे उसके सिर पर काफी चोटें आई थी. इसके बाद बच्‍ची को अस्‍पताल में भर्ती कराया लेकिन शनिवार को उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई.

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि जीटीबी अस्पताल में बच्ची की मौत के बाद आरोपी नेहा को गिरफ्तार कर लिया गया. वह पूर्वी दिल्ली की रहने वाली है. उन्होंने कहा, ‘‘महिला ने स्वीकार किया कि उसने गुस्से और निराशा के कारण उसे कचरे के ढेर में फेंक दिया.’’

बताया जा रहा है कि नेहा मूलरूप से कानपुर की रहने वाली थी और अपने पति सौरभ तिवारी के साथ पूर्वी दिल्‍ली के विनोद नगर में रहती है. सौरभ ट्रेवल एजेंट हैं और घर से ही काम करते हैं. वहीं नेहा गृहिणी है. सौरभ और नेहा की यह पहली संतान थी.

नेहा ने शुक्रवार को बताया कि उसकी बच्‍ची नहीं मिल रही है. इसके बाद पुलिस में मामला दर्ज कराया तो पुलिस को बच्‍चो कचरे के ढेर से मिली. इसके बाद उस बच्‍ची को लाल बहादुर शास्‍त्री अस्‍पताल में भर्ती कराया गया जहां से उसे जीटीबी अस्‍पताल में रेफर कर दिया गया. जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई.

Back to top button