मारुति प्लांट में घुसा तेंदुआ 35 घंटे बाद पकड़ा गया

गुरुग्राम। मारुति सुजुकी के पावर ट्रेन प्लांट में घुसा तेंदुआ 35 घंटे तक चले सर्च ऑपरेशन के बाद पकड़ में आया। उसे कहीं खरोंच तक का निशान नहीं है। इस वजह चिकित्सीय जांच के बाद उसे जंगल में छोड़ दिया जाएगा। बुधवार देर रात लगभग तीन बजे तेंदुआ प्लांट में घुस गया था। सबसे पहले कंपनी के गेट पर तैनात गार्ड ने उसे देखा था। इसके बाद लगभग साढ़े तीन बजे वह सीसीटीवी फुटेज में भी देखा गया।

सूचना मिलने पर वन विभाग की वन्य जीव शाखा गुरुग्राम की टीम ने गुरुवार सुबह लगभग साढ़े पांच बजे मोर्चा संभाला। तेंदुए को पकड़ने के लिए पिजरे में बंद करके बकरियां इंजन प्लांट में रखी गईं। इसके बाद भी तेंदुआ सामने नहीं आया।

शुक्रवार सुबह मांस रखा गया, फिर भी सामने नहीं आया। दोपहर लगभग दो बजे तेंदुआ एक मशीन के नीचे बैठा दिखा। इसके बाद वन्य जीव शाखा के निशानेबाज फारेस्ट गार्ड कृष्ण ने बेहोश करने वाली बंदूक से तेंदुए पर निशाना साधा।

तीन बजे उसे पिजरे में कैद कर लिया गया। गुरुग्र्राम के वन्य जीव मंडलीय अधिकारी श्याम सुंदर कौशिक ने बताया कि तेंदुआ लगभग छह साल का है।

सर्च आपरेशन लंबा चलने के पीछे कारण तेंदुए को पूरी तरह सुरक्षित पकड़ना था। प्लांट के भीतर भी किसी भी प्रकार का नुकसान नहीं हुआ।

टीम के सभी सदस्यों की कार्यकुशलता की वजह से किसी भी प्रकार का नुकसान नहीं हुआ।

1
Back to top button