राष्ट्रीय

दिल्ली: ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी 166 बार चूना लगाने वाला शातिर ठग गिरफ्तार

दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी को फर्जी तरीके से चूना लगाने वाले शातिर ठग को गिरफ्तार किया है. शिवम चोपड़ा नाम के इस शख्स पर ई-कॉमर्स वेबसाइट अमेजन इंडिया से 50 लाख रुपए से ज्यादा की ठगी करने का आरोप है.
21 साल के शिवम का फ्रॉड करने का तरीका बेहद शातिराना था. वह ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी से फोन पर ऑर्डर करता था. बाद में शिकायत करता था कि ऑर्डर डिलिवरी के दौरान डिब्बा खाली था. उसमें कुछ नहीं था.
शिवम पर आरोप है कि उसने फ्रॉड के इस तरीके को 225 बार आजमाया. वह 166 बार अमेजन इंडिया से रिफंड लेने में कामयाब भी रहा. होटल मैनेजमेंट का स्टूडेंट शिवम चोपड़ा उत्तरी दिल्ली के त्रिनगर इलाके में रहता है. पिछले हफ्ते ऑनलाइन कंपनी की शिकायत के बाद पुलिस ने बीते 6 अक्टूबर को उसे गिरफ्तार किया.

फ्रॉड करने के लिए 141 सिम कार्ड ले रखा था, 50 ईमेल बना रखी थी

डीसीपी (नॉर्थ-वेस्ट) मिलिंद डुंबरे ने कहा कि आरोपी शिवम ने इस तरह की कॉल करने के लिए लगभग 141 सिम कार्ड का यूज किया है. उसने इस काम को अंजाम देने के लिए 50 ईमेल आईडी भी बना रखी थी. उसने अपने स्मार्टफोन में अमेजन इंडिया एप पर कई अकाउंट भी बना रखे थे.

डुंबरे ने बताया कि शिवम फोन ऑर्डर देते वक्त हर बार अपना गलत पता देता था. जब डिलिवरी मैन मोबाइल लेकर आता तो वह उसे फोन पर रास्ता समझा देता. ऑडर्र लेते वक्त वो उसका कैश पेमेंट करता था. डिलिवरी लेने के बाद शिवम तुरंद अमेजन कंपनी में फोन करता था और बताता था कि जो पैकेट उसे मिला है वो पूरी तरह से खाली है. कंपनी उसकी बात पर यकीन कर कुछ दिनों में उसे रिफंड कर देती थी.

पुलिस के मुताबिक शिवम रिफंड लेने के बाद ऑर्डर से आए फोन को बेचकर पैसे कमाता था. इसी तरह से उसने सैकड़ों बार कंपनी से फ्रॉड किया.
पुलिस की पूछताछ में शिवम ने अपने साथी सचिन के बारे में बताया जिससे वो फर्जी तरीके से सिम कार्ड खरीदता था. पुलिस ने सचिन को भी इस मामले में गिरफ्तार किया है.
पुलिस ने आरोपी शिवम के घर की तलाशी ली तो वहां से उसे 19 मोबाइल फोन, 12 लाख रुपए कैश, 40 बैंक पासबुक और चेक मिले.

Summary
Review Date
Reviewed Item
166 बार चूना लगाने
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.