क्राइमराष्ट्रीय

एक ही परिवार के चार सदस्यों को दिल्ली पुलिस ने किया गिरफ्तार, जाने वजह

20 करोड़ रुपए से ज्यादा की धोखाधड़ी करने का आरोप

नई दिल्ली: एक ही परिवार के चार सदस्यों को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है. इन सभी पर जाली दस्तावेजों के जरिए एक ही संपत्ति को कई बैंकों में गिरवी रखकर 20 करोड़ रुपए से ज्यादा की धोखाधड़ी करने का आरोप है.

पुलिस ने शनिवार को बताया कि ऐसे एक मामले में आरोपी ने एक संपत्ति से धोखाधड़ी से कर्ज लिया, जिसे दिल्ली मेट्रो रेल निगम पहले ही अधिग्रहण कर चुकी थी. उन्होंने बताया कि दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध इकाई (EOW) ने 2016 के बैंक धोखाधड़ी के एक मामले में एक साथ कई स्थानों पर छापेमारी की थी, जिसके बाद अश्विनी अरोड़ा और विजय अरोड़ा तथा उनकी पत्नियों को दिल्ली और गाजियाबाद से अलग-अलग स्थानों से गिरफ्तार किया गया है. वे चार साल से फरार थे. पुलिस ने बताया कि पश्चिम दिल्ली के नारायणा इलाके में स्थित पंजाब एंड सिंध बैंक के जोनल प्रबंधक से 2016 में एक शिकायत मिली, जिसके बाद यह मामला प्रकाश में आया.

शिकायत में बैंक ने आरोप लगाया कि एम/एस रिया एंटरप्राइज ने ओवरड्राफ्ट एंगेस्ट प्रोपर्टी (ODP) सीमा 70 लाख रुपए तक की हासिल की. यह सीमा शाहदरा में जीटी रोड पर एक संपत्ति को गिरवी रखने के आधार पर दी गई, जो अश्विनी कुमार के नाम पर थी. वह कर्ज में गारंटर थे. ये ओडीपी सीमा करोल बाग स्थित पंजाब एंड सिंध बैंक ने दी थी.

पुलिस ने बताया कि इसी तरह से 2011 से आरोपी अपनी कंपनियों के जरिए संपत्तियों को गिरवी रखकर कई लाख रुपए की ओडीपी राशि प्राप्त कर चुके थे. पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि बैंक ने आरोप लगाया था कि ये संपत्तियां अन्य बैंकों में भी गिरवी रखी गई हैं. उन्होंने बताया कि शिकायत के आधार पर एक मामला दर्ज किया गया और छानबीन शुरू की गई.

संयुक्त पुलिस आयुक्त (EOW) डॉ. ओपी मिश्रा ने बताया की तफ्तीश में पता चला कि आरोपियों ने संपत्ति के कागजात की जाली श्रृंखला तैयार कराई थी, जिसके आधार पर वे रजिस्ट्रार कार्यालय में धोखे से संपत्ति का पंजीकरण या तो अपने नाम पर या किसी अन्य के नाम पर कराने में कामयाब रहे. उन्होंने बताया कि इन फर्जी दस्तावेजों के आधार पर वे एक ही संपत्ति पर कई बैंक से कर्ज ले पाए. इसी तरह से उन्होंने शिकायतकर्ता बैंक से भी कर्ज ले लिया था. मिश्रा ने बताया कि आरोपियों ने कम से कम पांच बैंकों के साथ 20 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी की है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button