दिल्ली पुलिस ने रोहित शेखर तिवारी की पत्नी और दो नौकरों को हिरासत में लिया

रिपोर्ट में बताया गया कि तिवारी की हत्या गला घोंटे जाने के कारण हुई

नई दिल्ली: एनडी तिवारी के बेटे रोहित तिवारी की मौत को संदिग्ध मानते हुए पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद दिल्ली पुलिस ने उनकी हत्या के मामले में गुरुवार को मामला दर्ज किया है. क्राइम ब्रांच की टीम मामले की गहराई से तहकीकात कर रही है.

रिपोर्ट में बताया गया कि तिवारी की हत्या गला घोंटे जाने के कारण सांस रुकने से हुई है. मामले को जांच के लिये अपराध शाखा के पास भेज दिया गया है. जिसके बाद दिल्ली पुलिस ने रोहित शेखर तिवारी की पत्नी अपूर्वा और दो घरेलू सहायकों को रविवार को पूछताछ के लिये हिरासत में ले लिया. सूत्रों ने बताया कि पुलिस रोहित तिवारी की हत्या के मामले में अपूर्वा को मुख्य संदिग्ध मान रही है.

उन्होंने कहा कि अपराध शाखा ने दक्षिणी दिल्ली के डिफेंस कॉलोनी में रोहित तिवारी के घर पर शनिवार को अपूर्वा से आठ घंटे पूछताछ की थी.रोहित शेखर की मां उज्ज्वला ने रविवार को आरोप लगाया कि अपूर्वा और उसके परिवार वालों की नजर रोहित की संपत्ति पर थी. गौरतलब है कि रोहित की 16 अप्रैल को संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी.

अपूर्वा और उसके परिवार की नजर हमारी प्रॉपर्टी पर

वहीं रोहित की मां उज्जवला का कहना था कि अपूर्वा और उसके परिवार की नजर हमारी प्रॉपर्टी पर थी. अपूर्वा का ये कहना कि रोहित का उसके कजन की वाइफ के साथ गलत रिश्ते थे, ये बात बिल्कुल गलत है. राजीव एनडी तिवारी के ओएसडी रहे हैं और हमारे रिश्तेदार भी. वह पिछले 20 साल से हमारी सेवा कर रहे थे. उनकी पत्नी भी बहुत सेवा करती थी. उसके साथ मेरे बेटे के कोई गलत रिश्ते नहीं थे. राजीव और उसकी पत्नी मेरे साथ तिलक लेन के घर रहते है.

उन्‍होंने कहा कि मेरा बड़ा बेटा सिद्धार्थ अपनी प्रॉपर्टी बाद में राजीव के बेटे को देना चाहता था. इस बात पर भी अपूर्वा को आपत्ति थी. वो चाहती थी कि सारी प्रॉपर्टी उसकी हो. अपूर्वा का परिवार बहुत तंग करता था. रोहित और अपूर्वा की मुलाकात मैट्रिमोनियल साइट के जरिये हुई. उसके बाद इन्होंने शादी करने का फैसला किया था.

जांच में पता चला है कि वहीं राजीव और उसकी पत्नी कुमकुम भी शेखर के साथ उत्तराखण्ड गए थे. जिसको लेकर शेखर की पत्नी खफा थी. डिफेंड कॉलोनी के उस घर से झगड़े की दो बार पीसीआर कॉल हुई है. अब तक घर के किसी सदस्य को क्लीन चिट नहीं मिली है और न ही करीबियों को.

Back to top button