तीखी बहस के बीच BJP नेताओं से केजरीवाल बोले- ‘अरे, चाय तो पी लो

अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया कि करीब 351 सड़कों पर सीलिंग नहीं हो रही है

तीखी बहस के बीच BJP नेताओं से केजरीवाल बोले- ‘अरे, चाय तो पी लो

दिल्ली में सीलिंग के मुद्दे ने सियासी ज़ोर पकड़ लिया है. मंगलवार सुबह इस मुद्दे पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के घर बैठक हुई. जिसमें भारतीय जनता पार्टी के कई नेता भी शामिल हुए. बैठक के दौरान ज़ोरदार हंगामा हुआ, मीडिया के सामने ही केजरीवाल और दिल्ली BJP अध्यक्ष मनोज तिवारी में तीखी बहस हुई.
[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”अगर आप पढ़ना नहीं
चाहते तो क्लिक करे और सुने”]

इस बीच अरविंद केजरीवाल बार-बार बीजेपी नेताओं को समझाने की कोशिश कर रहे थे. आम आदमी पार्टी के ट्विटर हैंडल से जारी एक वीडियो में दिख रहा है कि केजरीवाल बीजेपी नेता विजेंद्र गुप्ता से अपील कर रहे हैं कि वे उनकी बात सुने और बैठ जाएं. केजरीवाल कह रहे हैं, ”अरे, बैठ तो जाओ! पहले चाय तो पी लो!”.

आपको बता दें कि बैठक के बाद केजरीवाल ने मीडिया को संबोधित किया. अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हमने बीजेपी के नेताओं को इस मुद्दे पर चर्चा के लिए बुलाया था. बीजेपी की ओर से सिर्फ 5 सांसद और 2 मेयर बैठक में आए थे. उन्होंने इस मुद्दे पर अकेले में चर्चा करने की अपील की. केजरीवाल ने बताया कि मैंने बीजेपी वाले लोगों को मीडिया के सामने चर्चा करने की अपील की. मैंने बार-बार उनसे अपील की तो वे बैठक छोड़ कर चले गए. दिल्ली सरकार इस मुद्दे को सुप्रीम कोर्ट लेकर जाएगी.

अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया कि करीब 351 सड़कों पर सीलिंग नहीं हो रही है, सर्वे की रिपोर्ट अभी तक एमसीडी ने हमें नहीं सौंपी है. उन्होंने कहा कि एमसीडी ने सत्येंद्र जैन से दो दिन का समय मांगा था, हम इस रिपोर्ट को सुप्रीम कोर्ट के सामने पेश करेंगे.

इस दौरान बीजेपी ने आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं पर मारपीट का आरोप लगाया है. इस मुद्दे पर दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी का ने आरोप लगाया कि केजरीवाल के गुंडों ने उनके साथ धक्का-मुक्की और बदतमीजी की. उन्होंने कहा कि हम केजरीवाल के घर अपनी बात लेकर गए थे, लेकिन उन्होंने हमारी कोई बात नहीं सुनी उल्टा हम लोगों को अपमानित किया.

तिवारी बोले कि यह इतिहास का काला दिन है, राजनीति का काला दिन है. कोई भी किसी के घर मेहमान बनकर जाता है तो उसके साथ इस तरह से बदतमीजी और उसे अपमानित नहीं किया जाता. आपको बता दें कि इस मुद्दे को लेकर बीजेपी नेताओं ने पुलिस में शिकायत भी दर्ज करवाई है.

advt
Back to top button