हाथियों के उत्पात से फसलों के नुकसान पर मुआवजा बढाने की उठी मांग

हाथियों के उत्पात से फसलों के नुकसान पर मुआवजा बढाने की उठी मांग

रायपुर : बस्तर सहित अन्य आदिवासी क्षेत्रों में हाथियों और नक्सलियों के उत्पात को लेकर कांग्रेस ने राज्य सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. कटघोरा ब्लाक कांग्रेस कमिटी के पदाधिकारियों ने राज्य सरकार पर आदिवासियों के साथ सौतेला व्यवहार करने का आरोप लगाया है.

कांग्रेस के पदाधिकारियों ने मीडिया से चर्चा करते हुए कहा कि भाजपा सरकार 15 सालों में काफी विकास करने के दावें करती है लेकिन जमीनी हकीकत में ऐसा नहीं है. उन्होंने कहा कि आज भी आदिवासी क्षेत्रों में लोग मुलभुत सुविधाओं के लिए जूझते हैं.

कांग्रेस के नेताओं ने कहा कि सरकार ने हाथी के कुचलने से लोगों की होने वाली मौत पर सरकार मुआवजा देती है लेकिन अगर कोई हाथी को मार देता है तो उसे कठोर कारवास देती है. ऐसे में कांग्रेस ने मुआवजा राशि बढाने की मांग कि है वहीँ हाथियों द्वारा फसलों को नुकसान पहुंचाने पर भी तत्काल 25 से 30 हजार मुआवजा देने की मांग की है.

कांग्रेस नेताओं का कहना है कि जब किसान फसल लगाता है तो उतने में ही उसका खर्चा 15 से 20 हजार आ जाता है ऐसे में मुआवजे की राशि में बढ़ोत्तरी की जानी चाहिए. उनका कहना है कि प्रदेश के कई जिले इन दिनों हाथियों के आतंक से भयभीत है और लोगों को अपने जान का डर बना रहता है ऐसे में सरकार को उचित कदम उठाने की जरुरत

style=”color: #ff0000;”>हिंदी खबरों के साथ अपने आप को अपडेट रखिये, और हमसे जुड़िये फेसबुक और ट्विटर के ज़रिये

Back to top button