राष्ट्रीय

पूर्व राष्ट्रपति डॉक्टर अब्दुल कलाम के जन्मदिवस को राष्ट्रीय छात्र दिवस घोषित करने की मांग

नई दिल्ली : पूर्व राष्ट्रपति डॉक्टर एपीजे अब्दुल कलाम के जन्मदिन (15 अक्टूबर) को राष्ट्रीय छात्र दिवस घोषित करने की मांग की गई है। पूर्व राज्यसभा सदस्य और भाजपा नेता आनंद भास्कर रापोलू ने मानव संसाधन मंत्रालय को पत्र लिखकर यह मांग की है।

आनंद भास्कर ने मानव संसाधन मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निसंख को लिखे इस पत्र में कहा है कि यूनाइटेड नेशन पहले से ही 15 अक्टूबर को वर्ल्ड स्टूडेंट डे के रूप में मनाता है। ऐसे में हमें भी इसे लेकर गौर करना चाहिए।

उन्होंने इस पत्र में लिखा है कि हमारे देश के यंग माइंडस को इनोवेशन के रास्ते पर आगे बढ़ाने के लिए भाजपा ने डॉ कलाम को राष्ट्रपति बनाने का एक महत्त्वपूर्ण फैसला लिया था। उन्होंने दिल्ली के औरंगजेब रोड का भी जिक्र किया जिसका नाम बदल कर डॉ एपीजे अब्दुल कलाम के नाम पर रख दिया गया था।

उन्होंने मानव संसाधन विकास मंत्री से आग्रह किया कि इस दिन को उसी उत्साह के साथ मनाया जाए, जिस तरह पूरा देश 21 जून को विश्व योग दिवस और 7 अगस्त को राष्ट्रीय हथकरघा दिवस के रूप में मना जाता है। गौरतलब है कि साल 2015 में डॉ एपीजे अब्दुल कलाम के निधन के बाद से देश के कई विश्वविद्यालय और संस्थान 15 अक्टूबर को डॉ कलाम को याद करते हैं ।

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम देश के 11 वें राष्ट्रपति थे। उन्होंने 2002 में यह पदभार संभाला था। प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में एनडीए ने उन्हें अपना उम्मीदवार घोषित किया था। उन्हें पीपुल्स पेसिडेंट भी कहा जाता है। साथ ही ‘मिसाइल मैन’ के नाम से याद किया जाता है।

Tags
Back to top button
%d bloggers like this: