लोकतंत्र की हत्या हुई थी आपातकाल में – खूबचंद पारख

यह कालादिन इतिहास कभी नहीं भूलेगा

राजनांदगांव : जिला भाजपा द्वारा आज अपरान्ह स्थानीय मानव मंदिर चौक में प्रदर्शन कर आपातकाल में हुई लोकतंत्र की हत्या के विरोध में जनजागरण पैदा किया गया । प्रदर्शन सभा को जिला अध्यक्ष संतोष अग्रवाल, वरिष्ठ नेता खूबचंद पारख,पूर्व सांसद प्रदीप गांधी, जिला महामंत्री सावन वर्मा एवं जिला उपाध्यक्ष राजेन्द्र गोलछा ने सम्बोधित किया ।

वक्ताओं ने इस दिन को आजाद भारत का सबसे काला काल खण्ड निरूपित किया । सभा को सम्बोधित करते हुए मुख्य वक्ता पारख व अग्रवाल ने कहा कि जिस कांग्रेस ने 19 महीने का आपातकाल थोपकर लोकतंत्र को लहूलुहान किया, जयप्रकाश नारायण,अटल बिहारी बाजपेयी,मोरारजी देसाई,चंद्रशेखर जैसे बड़े नेताओं समेत 1 लाख राजनीतिक कार्यकर्ताओं को जेलों में ठूंस दिया और प्रेस की आजादी का गला घोंट दिया था उस कांग्रेस को हर साल 25 जून को प्रायश्यित दिवस मनाना चाहिए ।

कांग्रेस को अपने किये पर आज कोई पछतावा नहीं है इसीलिए हम भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता उस आपातकाल का विरोध करते हुए आज 26 जून को कालादिवस मना रहे हैं । जिला भाजपा मीडिया सेल प्रभारी ओजस दास ने बताया कि इससे पूर्व जीई स्थित जिला भाजपा कार्यालय से एक जुलुस की शक्ल में पदाधिकारी व कार्यकर्ता नगर भ्रमण कर काला दिवस के विरोध में नारे लगाये और संविधान द्वारा स्थापित नागरिक अधिकारों, रचनात्मक अभिव्यक्ति और प्रेस की स्वतंत्रता के प्रति अपने संकल्प का दोहराया ।

प्रदर्शन कर रहे भाजपा के नेताओं ने एक नया नारा 125 करोड़ भारतीयों का संकल्प-एक मजबूत लोकतंत्र,दिया । इस अवसर पर राज्यमंत्री अकरम कुरैशी, रेखा मेश्राम,भरत वर्मा,जिला मंत्री राजेश श्यामकर,शिव वर्मा,प्रकाश सांखला,कचरू शर्मा,देवशरण सेन,मुकेश बघेल,तरूण लहरवानी, बलवंत साव, हकीम खान, लीलाधर साहू, मूलचंद भंसाली, हरीश शर्मा, उत्तम गिडिय़ा, संजय लोहिया, मधु बैद,शाहिल गोलछा,प्रशांत गुप्ता,सुनीता साहू, कमलेश सूर्यवंशी, देवबती साहू, सुनील साहू, मनोहर साहू,भीषम देवांगन,शैल यादव,क्रांति मौर्य,विजय राय,अशीष डोंगरे, नादान सेन,सरिता उइके,निलेश सिंह, बंटी भाटिया, रवि साहू, इरफान खान, बशीर खान,रविन्द्र सिंह, नीलकंठ गढ़े, शेखर यादव, पारस वर्मा, वरूण पांडे, लक्ष्यण लोहिया, प्रतीक अग्रवाल, अरूण साहू,गीतेश गुप्ता,हरिओम शर्मा, मनीष गोलछा, पूर्णिमा साहू, किशुन यदु, जवहर बैद,देवेश देवांगन एवं गप्पू सोनकर की सक्रियता सराहनीय रही ।

Back to top button