डेंगू का कहर:पार्षद कुकरेजा ने रामकृष्ण में मरीजों का जाना हाल ,कहा ये

शासन-प्रशासन मामले की गंभीरता को समझे और ठोस कदम उठाए : अजीत कुकरेजा

रायपुर:पूरे प्रदेश सहित राजधानी भी इन दिनों डेंगू के कहर से जूझ रहा है .दुर्ग में डेंगू के चपेट में आकर अनेक लोगों की असमय मृत्यु हो गई इससे संपूर्ण प्रदेश में अलर्ट जारी हो गया है.

इधर रायपुर के रामकृष्ण अस्पताल मे डेंगू के मरीजों के उपचार की खबर मिलते ही पार्षद कुकरेजा और उनकी टीम ने अस्पताल पहुंचकर उनका हाल-चाल जाना .

डेंगू की आशंका और मरीजों के परिजनों को सही जानकारी नहीं देने के साथ ही मिलने ना दिए जाने की शिकायत नेता प्रतिपक्ष टीएसबाबा के पास पहुंची .

नेता प्रतिपक्ष ने मामले की गंभीरता को देखते हुए अजीत कुकरेजा के नेतृत्व मे 6 लोगों की टीम का गठन किया .साथ ही टीम को रामकृष्ण अस्पताल जाकर विषयवस्तु की स्पष्ट जांच करने के निर्देश दिए . अजीत कुकरेजा के नेतृत्व मे 6 लोगों की टीम हास्पिटल पहुंची।

टीम के नेतृत्वकर्ता अजीत कुकरेजा ने बताया कि जिन मरीजों की स्थिति खराब थी, उन मरीजों को इधर-उधर कर मामले को दबाने की कोशिश करते हुए लीपा पोती किया जा रहा हैं. हमें आधे घंटे इंतज़ार के बाद तीन लोगों से मिलने दिया गया जिसमें से दो लोग भिलाई के थे ,जिनमे से एक मरीज शीतल शर्मा और दूसरा मरीज विनय कुमार दोनो को मेडिकल आई॰सी॰यू॰ में रखा गया हैं। रायपुर निवासी आदित्य झा को प्राईवेट वार्ड मे रखा गया हैं।

तीनों मरीजों मे से दो की कंडिशन बहुत क्रिटिकल है. जांच के दौरान पाया गया कि लगभग 30 मरीज़ डेंगू के राम कृष्ण हास्पिटल में भर्ती है और रोज़ मरीज़ों की संख्या में इज़ाफ़ा हो रहा है.

डेलीगेट की टीम सभी मरीजों से मिलना चाहती थी ,लेकिन हमें उनसे मिलने नहीं दिया गया. अस्पताल और प्रशासन इस गंभीर मामले को दबाने में लगा हुआ है ।

छत्तीसगढ़ प्रदेश के अन्य शहरों से भी डेंगू के मामले की जानकारी मिल रही हैं। अगर इसी प्रकार से चलता रहा तो जल्द ही ये महामारी का रूप लेकर पूरे छत्तीसगढ़ में फैल जाएगी और डेंगू के मामले में छत्तीसगढ़ दिल्ली को भी पीछे छोड़ देगा। शासन प्रशासन को मामले को गंभीरता से लेते हुए ठोस कदम उठाने चाहिए एवं प्रदेश वासियों को सतर्क एवं जागरूक करना चाहिए।

Tags
Back to top button