7 बड़े इल्जामों पर हनीप्रीत ने दी सफाई

सात ऐसे बड़े इल्जाम जिनके जवाब खुद हनीप्रीत ने दिए.

पहला आरोप- दंगे की साजिश रची

सफाई- एक लड़की इतनी फोर्स के बीच अकेले बिना परमिशन के कैसे जा सकती है. इसके बाद कहा गया कि मैं गलत आई हूं. सारे सबूत दुनिया के सामने हैं. ऐसे में मैं कहां दंगे में शामिल थी. मेरे खिलाफ किसी के पास क्या सबूत है. आपने पूरी स्थिति देखी है. मैं कहां गुनहगार हूं. मैंने बेटी का फर्ज अदा किया. मैंने कहां बोला है? मैं कहां किस दंगे में शामिल रही हूं? मैं तो खुशी-खुशी कोर्ट गई, ताकि शाम तक वापस आ जाएंगे. लेकिन फैसला खिलाफ आ गया. हमारा तो दिमाग ही काम करना बंद कर दिया.

दूसरा आरोप- राम रहीम के साथ अवैध संबंध

सफाई- मुझे समझ में नहीं आता है कि बाप-बेटी के पवित्र रिश्ते को उछाला जा रहा है. मेरे मुख्य डर का कारण ही यही था कि हनीप्रीत को क्या प्रेजेंट किया. एक बाप-बेटी के रिश्ते को ऐसे तार-तार कर दिया. क्या एक बाप अपनी बेटी के सिर के उपर हाथ नहीं रख सकता है. क्या एक बेटी अपने बाप से प्यार नहीं कर सकती है.

तीसरा आरोप- अपराधी की तरह फरार हुई

सफाई- आप मेरी कंडीशन समझिएगा. मैं डिप्रेशन में चली गई थी. जो लड़की अपने बाप के साथ देशभक्ति की बात करती थी, वो जेल में चले गए. फिर उस लड़की पर देशद्रोह का आरोप लगाया गया. मुझे कानून की प्रक्रिया का पता ही नहीं था. पापा के जेल जाने के बाद मैं बेसहारा हो गई.

चौथा आरोप- हिरोइन बनना चाहती थी

सफाई- नहीं ऐसा कुछ नहीं था. मैं हीरोइन नहीं बनना चाहती थी. मैं कैमरे के पीछे रहना चाहती हूं.

पांचवा आरोप- डेरे में नरकंकाल दबे हैं

सफाई- आप बताइए, क्या डेरे में नरकंकाल मिले?

छठां आरोप- डेरे में लड़कियों का यौन शौषण होता है

सफाई- क्या आरोप लगाने वाली लड़कियां मिलीं? उन हजारों लड़कियों की बात अनसुनी करके सिर्फ एक खत के आधार पर किसी को कैसे गुनहगार ठहराया जा सकता है? मेरे पापा बेगुनाह हैं
सातवां आरोप- देशद्रोह किया

सफाई- जिस हनीप्रीत को आपने दिखाया है, वो हनीप्रीत ऐसी नहीं है. उसे ऐसे दिखाया गया है कि उससे मैं खुद डरने लगी हूं. मैं अपनी मेंटल स्थिति बयां नहीं कर सकती हूं. मुझे देशद्रोही कहा गया है, जो बिल्कुल गलत है.

Back to top button