भीषण गर्मी… लक्षण, कारण व बचाव के घरेलू तरीके….

- मनीष शर्मा

मुंगेली: भयंकर तापमान के मद्देनजर गर्मियों में इन दिनों लू लगना आम बात है। मई माह महीना में गर्मी भी अपने चरम पर आ जाती है और घरों में एसी, कूलर चालू हो जाते हैं। गर्मी में कई लोगों को घर से बाहर जाकर काम करना पड़ता है। ऐसे मे शरीर में पानी की कमी, बहुत ज्यादा गर्मी या और भी कई दूसरे कारणों से लू लग जाती है। गर्मियों में लू लगना आम बात है। आईये जानें इसके लक्षण, कारण और बचाव के घरेलू उपाय…

लक्षण…

सिर में भारीपन का महसूस होना,आँखें लाल होना या उनमें जलन महसूस होना, हाथ, पैरों में जलन महसूस होना, दिल की धड़कन तेज महसूस होना। उल्टी, चक्कर आना, बेहोशी या कमजोरी महसूस होना। बार – बार तेज बुखार आना। शरीर में ऐंठन महसूस होना। साँस लेने में तकलीफ महसूस होना।

कारण…

बहुत ज्यादा गर्मी में बाहर जाना। कम पानी पीना। गर्मियों में खाली पेट बाहर जाना। पसीने में या धूप में बेहद ठण्डा पानी पी लेना।

प्याज का रस

गर्मियों में लू से बचाव के लिये प्याज को रामबाण की तरह माना जाता है। लू लगने से बचाव के लिये आयुर्वेद में प्याज को अहम माना गया है। लू से बचने के लिये प्याज का रस पीना बहुत अच्छा माना गया है। प्याज के रस को कान के पीछे, छाती और तलवों पर लगाने से काफी फायदा होता है। इससे शरीर का तापमान नियंत्रण में आता है, शरीर को ठण्डक मिलती है। लू लगने की हालत में यह उसके असर को भी कम करता है। कच्चे प्याज की चटनी या सलाद काफी हद तक गर्मियों में लू से बचाव में कारगर है।

लिक्विड खूब लें

गर्मियों में हमारे शरीर को सर्दियों की अपेक्षा कहीं ज्यादा पानी की जरूरत होती है। इसकी वजह है इस मौसम में आने वाला ज्यादा पसीना। पसीना शरीर के तापमान को नियंत्रित कर लू से बचाता है। पसीने के चलते गर्मियों में शरीर का पानी ज्यादा खर्च होता है। गर्मियों में पसीना ज्यादा आने से आप कई बीमारियों से बचे रहते हैं। पसीना आता रहे इसके लिये जरूरी है कि आप खूब पानी पीते रहें। इसलिये लू से खुद को बचाने के लिये खूब पानी पीयें। घर से निकलते समय पानी पीकर निकलें और साथ में कुछ पानी रख भी लें। पानी के अलावा शरबत, गन्ने का जूस, लस्सी, छाछ वगैरह भी पीयें।

धनिये का धमाल

सेहत के लिहाज से गर्मियों में ज्यादा पेय पदार्थ लेने चाहिये, लेकिन गर्मियों का मौसम ऐसा होता है कि जिसमें न तो कुछ खाने का मन करता है न ही पीने का। तो क्यों न सेहत पाने और लू से बचाव के रास्ते को बनाया जाये स्वाद भी। लू से बचाव में धनिये का भी अहम रोल है। धनिये को कुछ देर के लिये पानी में भीगोकर रखें। इसके बाद इसे कूट लें और छानकर पानी में स्वाद के अनुसार चीनी मिलाकर पीयें। यह आपको लू से बचायेगा।

आम भी अपनायें

आम का पन्ना भी लू से बचाव देता है। इसे बनाने के लिये कुछ कच्चे आम उबाल लें। आप कच्चे आमों को तवे पर भून भी सकते हैं। इसके बाद कुछ देर ठण्डे पानी में रखें। जब आप ठण्डे हो जायें, तो इनके छिलके उतार दें। छिले आमों का गुदा उतार लें और जितना पन्ना बनाना हो उतने पानी में अच्छी तरह घोल लें। इसके बाद अपने स्वाद के अनुसार गुड़, धनिया, नमक, काली मिर्च, काला नमक वगैरह डालकर कुछ देर फ्रीज में रखें। इसे ठण्डा कर दिन में 02 से तीन बार पीयें। यह लू से बचाव में बहुत कारगर है।

Back to top button