छत्तीसगढ शासन महिला एवं बाल विकास विभाग रायपुर द्वारा बाल विवाह रोकथाम हेतु विस्तृत दिशा निर्देश

कोरबा : छत्तीसगढ शासन महिला एवं बाल विकास विभाग रायपुर द्वारा बाल विवाह रोकथाम हेतु विस्तृत दिशा निर्देश दिये गयेे है। 07 मई को अक्षय तृतीया है, इस अवसर पर बडी संख्या में बाल विवाह की संभावना रहती है।

जिसे देखते हुये कलेक्टर सह अध्यक्ष जिला बाल संरक्षण समिति के माध्यम से जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग जिला कोरबा द्वारा सर्व संबंधित विभाग के अधिकारी/कर्मचारीयों को दिशा निर्देश जारी किये गये है। जिले के समस्त बच्चों के देखरेख एवं संरक्षण को सुनिश्चित करने हेतु जिला बाल संरक्षण इकाई महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा बाल संरक्षण समिति का गठन किया गया है।

जिससे बच्चों के प्रति होने वाले अपराध एवं शोषण को रोका जा सके। इसके साथ ही होने वाले बाल विवाह की रोकथाम हेतु ग्राम, नगर, शहर इत्यादि स्तर पर बाल संरक्षण समिति का गठन किया गया है। उपरोक्त गठित बाल संरक्षण समिति में प्रमुख रूप से क्षेत्र के पंच, सरपंच, सचिव, पार्षद, वार्ड प्रतिनिधि, कोटवार, मितानीन, आंगनबाडी कार्यकर्ता, क्षेत्र के शिक्षक, चाइल्ड लाईन 1098,

पुलिस विभाग सहित जिले के सर्व संबंधित विभागों के अधिकारी, कर्मचारियों को रखा गया हैै, जिन्हे बच्चों के देखभाल एवं संरक्षण प्रदान करने एवं बाल विवाह न करने हेतु लोगों तक जानकारी प्रदान करने एवं बाल विवाह के रोकथाम हेतु जिम्मेदारी दी गयी है। ताकि किशोर न्याय (बालकों की देखरेख एवं संरक्षण) अधिनियम 2015 एवं आदर्श नियम 2016 के अंर्तगत बच्चों के देखरेख एवं संरक्षण को पूर्णतः सुनिश्चित किया जा सके।

ज्ञात हो कि पूर्व में भी बाल संरक्षण समिति की सजगता से जिले में बाल विवाह विवाह होने से रोका गया है। बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम 2006 के अनुसार 21 वर्ष से कम उम्र के लडके और 18 वर्ष से कम उम्र की लडकी के विवाह को प्रतिबंधित किया गया है।

यदि इसके पश्चात भी किसी व्यक्ति द्वारा इस कानून का उलंघन करते हुये बाल विवाह किया जाता है अथवा कराने में सहयोग करते हुये बढावा दिया जाता है तो उसे 2 वर्ष तक का कठोर कारावास एवं 1 लाख तक का जुर्माना से दण्डित किया जायेगा।

इसके साथ ही बाल विवाह में सम्मिलित होता है को भी 2 वर्ष तक का कठोर कारावास एवं 1 लाख तक का जुर्माने से दण्डित किये जाने का प्रावधान है। जिस हेतु जिला प्रशासन जिले के सभी प्रबुध्द नागरीकों से अपील करता है कि बाल विवाह न करें एवं बाल विवाह संबधित जानकारी चाईल्ड हेल्प लाईन 1098 (निशुल्क नंबर 24 घंटे दिन व रात) पर अथवा सर्व संबंधित विभाग पुलिस विभाग, महिला बाल विकास विभाग, कार्यालय जिला बाल संरक्षण इकाई, एकीकृत बाल विकास परियोजना कार्यालय इत्यादि को तत्काल अवगत करायें।

Back to top button