टिकट नहीं मिलने से नाराज देवेंद्र ठाकुर ने महासमुंद सीट से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में भरा पर्चा

गरियाबंद। देवभोग क्षेत्र के युवा चेहरा देवेन्द्र ठाकुर ने आज महासमुंद लोकसभा से निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ने लिए अपना नामंकन पर्चा भरा है। देवेंद्र ठाकुर लंबे समय से क्षेत्र में भारतीय जनता पार्टी में सक्रिय थे। लेकिन पार्टी ने लोकसभा चुनाव में टिकट नहीं दिए जाने से नाराज होकर निर्दलीय चुनाव लड़ने का फैसला लिया है।

देवेंद्र ठाकुर गरियाबंद जिले के निर्विरोध सरपंच संघ के अध्यक्ष हैं और अपनी बात को बेबाकी से रखने और क्षेत्र की समस्याओं खुल कर बोलने के लिए जाने जाते है। हमेशा क्षेत्र की समस्याओं को सरकार तक पहुंचाने व संघर्ष करने के कारण युवाओं,और गरीब तबके में अच्छी खासी मजबूत पकड़ हैं।

देवेंद्र ठाकुर कहना है कि मेरा लोकसभा चुनाव में उतरने का मकसद जनसेवा और क्षेत्र का विकास ही मेरा मुद्दा हैं। सड़क, पानी, बिजली, सिंचाई , उचित शिक्षा ,इलाज , रोजगार जैसे मूलभूत सुविधाओं का अभाव इस क्षेत्र में है, इन मुद्दे पर मांग और संघर्ष हमेशा करता रहूंगा और इन मांगों को लेकर हमेशा लड़ता रहूंगा।

देवेन्द्र ठाकुर ने साफ शब्दों में कहा कि मैं लगातार 10 वर्षों से भाजपा के सिपाही बन कर जनता का कार्य कर रहा था बूथ अध्यक्ष से जिला पदाधिकारी के रूप में अपनी जिम्मेदारी निभाया और आज मुझे मेरे पार्टी से बहुत उम्मीद थी कि युवा चेहरा होने के नाते मुझे जनता का सेवा करने का एक अवसर प्रदान करेंगे ,पर पार्टी ने मेरी ईमानदारी और जनसेवा को नजर अंदाज किया है। इस लिए अब दलगत राजनीति नही करूँगा। क्षेत्र की जनता के मनसा के अनुरूप निर्दलीय चुनाव लड़ूंगा। यदि जनता मुझे विजयी कराती है तो मैं सांसद के रूप में नही जानता की आवाज के रूप में काम करूंगा।

Back to top button