राष्ट्रीय

कर्नाटक में देवगौड़ा को झटका, 7 विधायकों ने कांग्रेस का दामन थामा

मैसूर : जैसे ही चुनाव नजदीक आना शुरू होते है, राजनीतिक दलों में हलचल मचनी शुरू हो जाती है. नेता सुरक्षित ठिकानो की तलाश में अपने अपने खेमे बदलना भी शुरू कर देते हैं. इसी क्रम में पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा की अगुवाई वाले जनता दल (एस) को झटका देते हुए पार्टी के सात बागी पूर्व विधायक सत्तारूढ़ कांग्रेस में पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी की मौजूदगी में शामिल हो गए.

कांग्रेस में शामिल हुए

बागी विधायकों ने शनिवार को कर्नाटक विधानसभा से इस्तीफा दे दिया था. इससे एक दिन पहले उन्होंने 23 मार्च को राज्य में राज्यसभा के चुनाव में कांग्रेस के प्रत्याशियों के पक्ष में क्रॉसवोटिंग की थी. राहुल गांधी ने जमीर अहमद खान, चालुवराया स्वामी, इकबाल अंसारी, बालकृष्ण, रमेश बांदीसिद्देगौड़ा, भीमा नायक और अखंड श्रीनिवास मूर्ति का पार्टी में स्वागत किया और पार्टी की सदस्यता ग्रहण करवाई. इन पूर्व विधायकों के साथ जेडीएस के पूर्व विधान पार्षदों एमसी ननैया, सरोवर श्रीनिवास और बी. रामकृष्णराव ने भी कांग्रेस की सदस्यता ले ली.

किसी की नहीं सुनते कुमारस्वामी

ये विधायक पार्टी नेतृत्व, खासकर जेडीएस की प्रदेश इकाई के प्रमुख एच डी कुमारस्वामी के खिलाफ मुखर रहे हैं. पार्टी छोड़ने के पीछे कारण बताते हुए इन्होंने बताया कि पार्टी पर एक व्यक्ति हावी हो गया है. उन्होंने कहा, ‘एचडी कुमारस्वामी किसी की नहीं सुनते. वह अपने पिता एवं पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा और बड़े भाई एचडी रेवन्ना से विचार विमर्श की जरूरत नहीं समझते. क्या वह हमारी सुनेंगे?’

कांग्रेस के पक्ष में किया मतदान

जेडीएस के बागी विधायकों के वोट और निदर्लीय विधायकों के समर्थन से 23 मार्च को राज्यसभा चुनावों में सत्तारूढ़ कांग्रेस बोनस के रूप में तीसरी सीट जीतने में कामयाब रही. सदन में अपने संख्या बल के आधार पर वह दो ही सीटें जीतने की अपेक्षा कर रही थी. लेकिन जेडीएस के बागी विधायकों को वोट मिलने से उसके सदस्यों की संख्या तीन हो गई.

राहुल गांधी ने कसा था तंज

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने रविवार को मैसुर में एक जनसभा में जेडीएस पर खुलकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि जेडीएस भाजपा को समर्थन देने को लेकर अपना रुख साफ करे. जेडीएस का गढ़ माने जाने वाले पुराने मैसूर क्षेत्र की वोक्कालिगा पट्टी में एक जनसभा को संबोधित करते हुए राहुल ने कहा कि जेडीएस को साफ करना होगा कि वह भाजपा की ‘बी टीम’ है कि नहीं. राहुल ने कहा कि जेडीएस को साफ करना होगा कि क्या वे भाजपा का समर्थन कर रहे हैं, अगर हां, तो क्यों? उन्होंने कहा कि जेडीएस का पूरा नाम जनता दल संघ परिवार है.

तेज होती जा रही है. राज्य के नेता सुरक्षित आशियाने की तलाश में अपने खेमे बदल रहे हैं. इसी क्रम में पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा की अगुवाई वाले जनता दल (एस) को झटका देते हुए पार्टी के सात बागी पूर्व विधायक सत्तारूढ़ कांग्रेस में पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी की मौजूदगी में शामिल हो गए.

कांग्रेस में शामिल हुए

बागी विधायकों ने शनिवार को कर्नाटक विधानसभा से इस्तीफा दे दिया था. इससे एक दिन पहले उन्होंने 23 मार्च को राज्य में राज्यसभा के चुनाव में कांग्रेस के प्रत्याशियों के पक्ष में क्रॉसवोटिंग की थी. राहुल गांधी ने जमीर अहमद खान, चालुवराया स्वामी, इकबाल अंसारी, बालकृष्ण, रमेश बांदीसिद्देगौड़ा, भीमा नायक और अखंड श्रीनिवास मूर्ति का पार्टी में स्वागत किया और पार्टी की सदस्यता ग्रहण करवाई. इन पूर्व विधायकों के साथ जेडीएस के पूर्व विधान पार्षदों एमसी ननैया, सरोवर श्रीनिवास और बी. रामकृष्णराव ने भी कांग्रेस की सदस्यता ले ली.

किसी की नहीं सुनते कुमारस्वामी

ये विधायक पार्टी नेतृत्व, खासकर जेडीएस की प्रदेश इकाई के प्रमुख एच डी कुमारस्वामी के खिलाफ मुखर रहे हैं. पार्टी छोड़ने के पीछे कारण बताते हुए इन्होंने बताया कि पार्टी पर एक व्यक्ति हावी हो गया है. उन्होंने कहा, ‘एचडी कुमारस्वामी किसी की नहीं सुनते. वह अपने पिता एवं पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा और बड़े भाई एचडी रेवन्ना से विचार विमर्श की जरूरत नहीं समझते. क्या वह हमारी सुनेंगे?’

कांग्रेस के पक्ष में किया मतदान

जेडीएस के बागी विधायकों के वोट और निदर्लीय विधायकों के समर्थन से 23 मार्च को राज्यसभा चुनावों में सत्तारूढ़ कांग्रेस बोनस के रूप में तीसरी सीट जीतने में कामयाब रही. सदन में अपने संख्या बल के आधार पर वह दो ही सीटें जीतने की अपेक्षा कर रही थी. लेकिन जेडीएस के बागी विधायकों को वोट मिलने से उसके सदस्यों की संख्या तीन हो गई.

राहुल गांधी ने कसा था तंज

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने रविवार को मैसुर में एक जनसभा में जेडीएस पर खुलकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि जेडीएस भाजपा को समर्थन देने को लेकर अपना रुख साफ करे. जेडीएस का गढ़ माने जाने वाले पुराने मैसूर क्षेत्र की वोक्कालिगा पट्टी में एक जनसभा को संबोधित करते हुए राहुल ने कहा कि जेडीएस को साफ करना होगा कि वह भाजपा की ‘बी टीम’ है कि नहीं. राहुल ने कहा कि जेडीएस को साफ करना होगा कि क्या वे भाजपा का समर्थन कर रहे हैं, अगर हां, तो क्यों? उन्होंने कहा कि जेडीएस का पूरा नाम जनता दल संघ परिवार है.

Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.