छत्तीसगढ़

सिटी महा कालीबाड़ी मे भक्तों को मुग्ध किया बाउल गीत

रायपुर : रायपुर के गोविन्द नगर पंडरी स्थित सिटी महा कालीबाड़ी मंदिर प्रांगण में आज महा सप्तमी के दिन बंगाली समुदाय के लोगों ने देवी दुर्गा के माँ कालरात्रि रूप का पूजन किया साथ पुष्पांजलि अर्पित किये। आज सिटी कालीबाड़ी में रायपुर शहर के अलग अलग स्थानों से पधारे भक्तों ने देवी दुर्गा को पुष्पांजलि अर्पित कर संधि पूजा में भाग लिए। आज माँ कालरात्रि रूपी देवी दुर्गा के पूजन के समय बंगाल से पधारे ढाकियों ने ढाक वाद्य यंत्र से अलग ही प्रकार से ढाक बजाते हुए नृत्य किये साथ ही सिटी महा कालीबाड़ी में बंगाल के सुप्रसिद्ध लोकगीत “बाउल गान ” का कार्यक्रम हुआ। सिटी महा कालीबाड़ी समिति के अध्यक्ष दीप्तेश चटर्जी ने बताया की छत्तीसगढ़ के पखांजूर में रहने वाले चित्तरंजन दास बाउल ने अपने लोक गीतों से दर्शकों का मन मोहा साथ ही अपने वाद्य यंत्र के संगीत से माहौल को भक्तिमय बना दिया । आगे दीप्तेश चटर्जी ने बताया की बाउल गीत देवी के आराधना के लिए भी गाया जाता है जिस हेतु बंगाली समुदाय में इस लोक गीत – संगीत का विशेष महत्त्व है। समिति के सत्यजीत राय , मानब गांगुली , गौतम मजूमदार , शम्भू राय ने बताया की दुर्गा पूजा में बंगाल का प्रसिद्द धुनुची नृत्य शाम के समय सिटी कालीबाड़ी में प्रति वर्ष होता है जिसमे पुरुषों के साथ साथ महिलायें एवं बच्चे भी नृत्य करती हैं। ऐसी मान्यता है क धुनुची नृत्य से देवी दुर्गा प्रसन्न होती है।

Related Articles

Leave a Reply