डीजीपी के फरमान का असर हुआ बेअसर, चालानी कार्रवाई हुई सुस्त

सड़क पर दिखाई नहीं दे रहा फरमान का असर

रायपुर: पिछले दिनों डीजीपी डीएम अवस्थी ने ट्रैफिक नियमों की अनदेखी कर फर्राटा भरने वाले वाहन चालकों के खिलाफ सख्ती से कार्रवाई करने सघन जांच अभियान चलाने का निर्देश दिया था।

यहीं नहीं नियम तोड़ने वाले आम से लेकर खास यहां तक की मंत्रियों के वाहनों का भी चालान काटने के मौखिक निर्देश दिए है, हालांकि ट्रैफिक पुलिस अधिकारी ऐसा कोई भी आदेश से साफ इंकार कर रहे है।

उनका कहना है कि सघन जांच अभियान चलाकर स्कूल बस, ऑटो रिक्शा के खिलाफ सख्ती से कार्रवाई लगातार की जा रही है। लेकिन वास्तकिता है कि सड़क पर वाहन चालकों की जांच व कार्रवाई दिखाई नहीं दे रही है।

पिछले आठ महीने से चालानी कार्रवाई के आकंड़े पर गौर करे तो आधी होकर रह गई है। पहले जहां रोज सौ से डेढ़ सौ वाहन चालकों पर चालानी कार्रवाई होती थी, अब वह आकंडा पचास से अधिक पार नहीं कर पा रहा है। 1 अगस्त से 26 अगस्त के बीच कुल 975 वाहन चालकों पर चालानी कार्रवाई कर की गई हैं। इनमें 80 से अधिक प्रकरण कोर्ट में पेश किए गए है।

कैशलेस सिस्टम पड़ रहा भारी –

अवैधवसूली की शिकायत पर डीजीपी डीएम अवस्थी ने पिछले महीने चालानी कार्रवाई के दौरान नकद पैसे लेने पर रोक लगाई थी। यही नहीं जुर्माना लेने के लिए केवल राजपत्रित अधिकारी को ही आदेशित किया था।

इस आदेश के बाद पुलिस ने करीब दस दिन तक नकदी चालानी कार्रवाई बंद कर कर दी थी, क्योंदि पुलिस के पास जुर्माना वसूलने स्वाइप मशीन नहीं था। दस दिन पहले ट्रैफिक पुलिस को 10 स्वाइप मशीन खरीदकर दिया गया। ये मशीने सभी निरीक्षकों को कार्रवाई करने दिया गया।

कैशलेस सिस्टम से चालान का पैसा वसूलने के कारण कई तरह की दिक्कते सामने आ रही है। जिन वाहन चालकों के पास एटीएम कार्ड नहीं है, उनके वाहन को जब्त कर प्रकरण कोर्ट में पेश किया जा रहा है। ऐसे में वाहन चालकों के साथ रोज ट्रैफिक अमले का विवाद होने से कैशलेस सिस्टम सब पर भारी पड़ रहा हैं।

एटीएम कार्ड नहीं होने से बढ़ी परेशानी –

ट्रैफिक नियमों का उल्लघंन करने वाले अधिकांश दोपहिया चालक ऐसे मिल रहे है जिनके पास न क्रेडिट और एटीएम कार्ड है। ऐसे में मजबूरी में ट्रैफिक पुलिस को वाहन जब्त कर प्रकरण कोर्ट में पेश करना पड़ रहा है।

जबकि चालक नकद पैसे देकर अपनी गाड़ी छुड़ाना चाहते हैं लेकिन डीजीपी के फरमान से पुलिस के साथ वाहन चालकों को परेशानी बढ़ गई है। विवाद से बचने के लिए पुलिस को कई वाहन चालकों को मजबूरी में बिना होकर छोड़ना पड़ रहा है।

नए आदेश पर अभियान चलाने की तैयारी –

डीजीपी डीएम अवस्थी ने पिछले दिनों नया फरमान जारी किया है। आठ बिंदुओं उन्होंने वाहन चालकों पर कार्रवाई करने का आदेश दिया है।

दरअसल 19 अगस्त को हुए राज्य स्तरीय सड़क सुरक्षा परिषद की बैठक में सड़क दुर्घटनाओं को नियंत्रित करने लिए गए फैसले को ध्यान में रखकर डीजी ने यातायात और पुलिस विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया है कि प्रत्येक माह कम से कम एक सप्ताह विशेष अभियान चलाकर मोटरयान अधिनियम के प्रावधानों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करें। अब पुलिस इस फरमान को पूरा करने की तैयारी कर रही है।

Back to top button