टेक्नोलॉजी

डिजिटल गेम आपको कहीं न कर दे बीमार, बहुत बीमार

डब्ल्यूएचओ ने अपनी ग्यारहवीं आईसीडी में कहा, मानसिक गड़बड़ी

नई दिल्ली।

कंप्यूटर और मोबाइल फोन पर डिजिटल गेम खेलने की लत एक प्रकार की दिमागी बीमारी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के विशेषज्ञों ने इस दिमागी गड़बड़ी अपने नए अंतरराष्ट्रीय रोग वर्गीकरण (आईसीडी) में शामिल किया है।

डब्लयूएचओ के इस वर्गीकरण में शामिल की गई बीमारियों का चिकित्सकीय इलाज करवाना जरूरी माना जाता है। इस विश्व संगठन ने डिजिटल माध्यमों पर गेमिंग की लत के अध्ययन के बाद बताया कि इस बीमारी का अपना ही एक सांचा होता है। इसके शिकार रोगियों में गेमिंग की लत इस हद तक बढ़ सकती है कि वह अपने जीवन के किसी भी अन्य पहलू की अपेक्षा गेमिंग को अधिक महत्वपूर्ण मानने लगते हैं।

उल्लेखनीय है कि डब्ल्यूएचओ पूरी दुनिया में कार्यरत स्वास्थ्य क्षेत्र के पेशेवर विशेषज्ञों के नजरिए और चिकित्सकीय प्रणालियों में बदलाव करने के लिए यह वर्गीकरण जारी करता है। इससे चिकित्सकों के साथ ही रोगियों में भी अपनी स्थिति के बारे मे जागरूकता आती है। इस जागरूकता के आधार पर वह सुनिश्चित कर सकते हैं कि ऐसी बीमारियों से जूझ रहे लोगों को उचित चिकित्सकीय सहायता सही वक्त पर मिल सके।

इस वर्गीकरण के साथ ही कहा गया है कि मनोविश्लेषक गेमिंग की लत को दूर करने के लिए एक खास चिकित्सा प्रणाली ‘डिजिटल डिटॉक्स’ विकसित करने की कोशिश कर रहे हैं।

विशेषज्ञ बताते हैं कि व्यक्ति जितनी अधिक देर तक कंप्यूटर या मोबाइल फोन के स्क्रीन पर टकटकी लगाए बैठा रहता है, उतनी ही देर तक उसका अपने आस—पास के इन्सानों के साथ बातचीत या अन्य लेन—देन का समय घट जाता है।

छोटे बच्चों और वयस्कों में भी इन्सानी संपर्क टूटने से लोगों के साथ भावनातमक जुड़ाव कमजोर पड़ता है। हालात तो यह हैं कि परिवारों में भी लोग आपस में बातचीत या विचार—विमर्श करने में अधिक समय गुजारने के बजाय अपने गैजेट्स पर समय गुजारने लगे हैं। लोग आपस में मिलना—जुलना भी कम कर चुके हैं।

इससे समाज में बच्चों और बड़ों के बीच की खाई चौड़ी होती जा रही है। इन हालात में आम तौर पर बच्चों और बड़ों में विभिन्न मुद्दों और विषयों के प्रति सचेतनता भी घटती जा रही है।

जानकारी के मुताबिक, डब्ल्यूएचओ ने अपनी आईसीडी के ग्यारहवें संस्करण में 55 हजार चोटों, बीमारियों और मौत के कारणों को जोड़ा है। इस वर्गीकृत जानकारी का प्रयोग पूरी दुनिया में स्वास्थ्य क्षेत्र में काम करने वाले कर्मचारी और पेशेवर विशेषज्ञों के काम आती है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button